(Asahishnuta) असहिष्णुता का अर्थ Meaning in Hindi

असहिष्णुता शब्द भारत के राजनीती क्षेत्र में चल रहे उतार चढ़ावों के कारण प्रसिद्ध हो गया तथा यह शुद्ध हिन्दी से सबंधित होने के कारण समझना कठिन है साधारण अर्थानुसार सहिष्णुता का अर्थ है “असहनशीलता” अर्थात किसी भी प्रकार के कृत्य (काम), क्रिया, घटना, समस्या, व्यवहार इत्यादि को सहन ना करना तथा उसके खिलाफ खड़े हो जाना या उसका विरोध करना; किसी भी देश, धर्म इत्यादि में असहिष्णुता का कोई स्थान नही होता परन्तु यह शब्द बुरे के खिलाफ खड़ा होने के लिए नकारात्मक भी नही है

अर्थात किसी बुरे कृत्य के खिलाफ खड़ा होना और किसी कृत्य के खिलाफ खड़ा होना; दोनों वाक्यांशों में अंतर है जो देखने में साधारण है परन्तु बहुत अधिक महत्व रखता है उदाहरण के तौर पर व्यक्ति को अपने अनुसार जीवन जीने का, धार्मिक कृत्य करने इत्यादि का पूर्ण अधिकार है परन्तु यदि यह किसी अन्य व्यक्ति को आहत ना करता हो यदि बिना आहत हुए व्यक्ति किसी कृत्य का विरोध करता है तब वह असहिष्णु है परन्तु यदि वह व्यक्ति आहत (मानसिक या शारीरिक हानि) होने के पश्चात किसी कृत्य का विरोध करता है तब वह असहिष्णु नही कहलाएगा


अधिक सरल शब्दों में कहा जाए तो जो व्यक्ति को निजी तौर पर पसंद ना हो, उसके खिलाफ जाना या उसे बर्दाश्त ना कर पाना असहिष्णुता है क्योंकि जो किसी को निजी तौर पर पसंद नही है हो सकता है वह अन्यों के लिए आवश्यक हो या उनकी जरूरते पूरी करता हो; इसके अतिरिक्त किसी के विचारों से सहमत न हो पाना तथा बिना किसी कारण के उनकी काट करना (सिरे से नकारना) असहिष्णुता का प्रतीक है; इसके अतिरिक्त उसे सहन ना करना जो अपने से भिन्न हो चाहे वह धार्मिक हो, सांस्कृतिक हो, नस्लीय हो या किसी अन्य प्रकार से भिन्न हो, उसे बर्दाश्त ना करना असहिष्णुता कहलाती है असहिष्णुता को अंग्रेजी में इनटॉलरेंस (Intolerance) (आई.एन.टी.ओ.एल.ई.आर.ए.एन.सी.ई.) कहा जाता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...