सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

(Chak De Phatte) चक दे फट्टे का अर्थ Meaning in Hindi

चक दे फट्टे पंजाबियों द्वारा आमतौर पर बोला जाने वाला शब्द/ वाक्य है जिसका इतिहास से सबंध होने के साथ साथ वर्तमान रुपी अर्थ भी हैं चक दे फट्टे दो शब्दों से मिल कर बना वाक्यांश है “चक दे” का अर्थ होता है “उठा दे” अर्थात किसी वस्तु इत्यादि को शारीरिक या अन्य बल द्वारा स्थानांतरित करना या उठाना; उठा दे या चक दे शब्द किसी को आज्ञा देने का बोध करवाता है तथा द्वितीय शब्द “फट्टे” एक प्रकार का लकड़ी से बना आकार जिसकी लम्बाई तथा चौड़ाई के अनुपात में मोटाई बहुत कम होती है इसे पेड़ की कटी लकड़ी को चीर कर यह रूप दिया जाता है अब इस शब्द से इतिहास को जोड़ते हैं

इतिहास में भारत पर मुगलों का राज रहा है इसी भारत में जब सिक्खों ने मुगलों से भिड़ने का मन बनाया तो बहुत सी तकनीकें प्रयोग में लाइ गई उन्ही में से एक थी चट्टानी गहराइयों/ नदियों/ नहरों झीलों को पार करने के लिए फट्टे प्रयोग की जाने की तकनीक क्योंकि सिखों की संख्या कम होने के कारण वे मुगलों पर छिप कर हमला करते थे तथा किसी प्रकार के वापसी हमले पर फट्टे जो कि चट्टानों की गहराइयों को पार करने के लिए लगाए जाते थे स्वयं निकलने के पश्चात उन्हें उठा लेते थे जिस कारण मुग़ल सेना उनका पीछा कर पाने में असमर्थ हो जाती थी इन्ही फट्टों को उठाने के निर्देशानुसार “चक दे फट्टे” शब्द का प्रयोग किया जाता था जो कि बचकर निकल पाने में सफलता का प्रतीक था तथा मुगलों की एक हार के रूप में देखा जाता था

समय के साथ साथ यह शब्द किसी को कार्य करने के लिए साहस देने के रूप में प्रयोग होने लगा तथा आम हो गया पंजाबी लोग जब किसी को हौंसला देते हैं तब “चक दे फट्टे” का प्रयोग करते हैं उदाहरण के तौर पर ये वाक्य लीजिए “तेनु मौका मिलया ए बस हुण फट्टे चक दे...” अर्थात “अब तुमको मौक़ा मिला है यह काम कर के दिखाओ... अपनी काबिलियत साबित करो...”

इस शब्द का विकास यहीं नही थमा वर्तमान में इसी वाक्य को जोड़ कर एक नया प्रचलित वाक्य बन गया जो इस प्रकार है “चक दे फट्टे, नप्प दे किल्ली, सुबह जालंधर, शाम नूं दिल्ली...” यह वाक्य परिवहन (ट्रांसपोर्ट) से जुड़े पंजाबियों द्वारा बनाया गया प्रतीत होता है “नप्प दे किल्ली...” अर्थात ट्रक/ वाहन का वेग (रेस) बढ़ाने वाले पैडल को दबाना; तथा सुबह जालंधर शाम नूं दिल्ली अर्थात बिना रुके जालंधर से दिल्ली का सफ़र तय करना जो कि कम से कम एक दिन का समय लेता है बिना रुके इतना लम्बा सफ़र चालक के साहस को दर्शाता है।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आमी तोमाके भालोबाशी का अर्थ - Ami Tomake Bhalobashi Meaning in Hindi

* आमी तोमाके भालोबाशी बंगाली भाषा का शब्द है। * इसका हिंदी में अर्थ होता है "मैं तुमसे प्यार करता/ करती हूँ। * इस शब्द का प्रयोग हिंदी फिल्मों और गानों में बंगाली टच देने के लिए किया जाता है। * आमी तोमाके भालोबाशी में "तोमाके" का अर्थ होता है "तुमको" इसे "तोमे" के साथ भी बोला जा सकता है अर्थात "आमी तोमे भालोबाशी" का अर्थ भी "मैं तुमसे प्यार करता हूँ" ही होता है। * अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति जैसे माता-पिता को बंगाली में यह शब्द कहते हुए "तोमाके" शब्द को "अपनके" बोला जाता है जैसे : आमी अपनके भालोबासी" * अंग्रेजी में इसका अर्थ आई लव यू होता है। * अगर बोलना हो कि "मैं तुमसे (बहुत) प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "आमी तोमाके खूब भालोबाशी" * वहीं अगर बोलना हो " तुम जानती हो मैं तुमसे प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "तुमी जानो; आमी तोमाके भालोबाशी"

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान दोहे का अर्थ Karat Karat Abhyas Ke Jadmati Hot Sujan Doha Meaning in Hindi

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान मध्यकालीन युग में कवि वृंद द्वारा रचित एक दोहा है यह पूर्ण दोहा इस प्रकार है "करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान; रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान" इस दोहे का अर्थ है कि निरंतर अभ्यास करने से कोई भी अकुशल व्यक्ति कुशल बन सकता है यानी कि कोई भी व्यक्ति अपने अंदर किसी भी प्रकार की कुशलता का निर्माण कर सकता है यदि वह लगातार परिश्रम करे। इसके लिए कवि ने कुए की उस रस्सी का उदाहरण दिया है जिस पर बाल्टी को बांध कर कुए से पानी निकाला जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण वह रस्सी कुए के किनारे पर बने पत्थर पर घिसती है तथा बार-बार घिसने के कारण वह कोमल रस्सी उस पत्थर पर निशान डाल देती है क्योंकि पानी भरने की प्रक्रिया बार बार दोहराई जाती है इसलिए वह रस्सी पत्थर निशान डालने में सफल हो जाती है। यही इस दोहे का मूल है इसमें यही कहा गया है कि बार-बार किसी कार्य को करने से या कोई अभ्यास लगातार करने से अयोग्य से अयोग्य व मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी कुशल हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को कभी भी अभ्यास करना नहीं छोड़ना चाहिए। इस दोहे के लिए अंग्रेजी में एक वाक्य प्रय

जिहाल-ए-मिस्कीं मकुन बरंजिश का अर्थ | Zihale-E-Miskin Mukun Ba Ranjish Meaning in Hindi

"जिहाल-ए -मिस्कीन मकुन बरंजिश" पंक्ति हिंदी फिल्म गुलामी में गए गए गीत के चलते प्रचलित हुई है। यह गीत प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो द्वारा रचित फ़ारसी व बृजभाषा के मिलन से बनी कविता से प्रेरित है। यह कविता मूल रूप में इस प्रकार है। ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां... कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां... इस मूल कविता का अर्थ है : आँखे फेरके और बातें बनाके मेरी बेबसी को नजरअंदाज (तगाफ़ुल) मत कर... हिज्र (जुदाई) की ताब (तपन) से जान नदारम (निकल रही) है तुम मुझे अपने सीने से क्यों नही लगाते... इस कविता को गाने की शक्ल में कुछ यूँ लिखा गया है : जिहाल-ए -मिस्कीं मकुन बरंजिश , बेहाल-ए -हिजरा बेचारा दिल है... सुनाई देती है जिसकी धड़कन , तुम्हारा दिल या हमारा दिल है... इस गाने की पहली दो पंक्तियों का अर्थ है : मेरे दिल का थोड़ा ध्यान करो इससे रंजिश (नाराजगी) न रखो इस बेचारे ने अभी बिछड़ने का दुख सहा है...