(Sanshodhan) संशोधन का अर्थ Meaning in Hindi

किसी भी नियम इत्यादि में सुधार हेतु उचित बदलाव करना संशोधन कहलाता है विशेष तौर पर इस शब्द का प्रयोग संविधान में सुधार करने हेतु नियम परिवर्तन के लिए किया जाता है जो लोगों की मांग पर या परिस्थितियों पर निर्भर करता है संशोधन का हिन्दी में अर्थ होता है “सुधारना”; संविधान में संशोधन कर नियमों में बदलाव किया जाता है यह बदलाव छोटे या बड़े स्तर का हो सकता है जिससे संविधान में समयनुसार पनप रही त्रुटियों को नष्ट किया जा सके तथा वर्तमान परिस्थियों के अनुसार प्रत्येक नियम खरा उतरे। संशोधन का एक अन्य अर्थ होता है शुद्ध करना; जो कि किसी भी विचार इत्यादि की विभिन्न अशुद्धियों व गलत प्रकार के विचारों को नष्ट कर किया जा सकता है। संशोधन का एकमात्र उद्देश्य अशुद्धियों को दूर कर नियमों में सुधार लाना होता है जिससे वे नियम हानि से ज्यादा लाभ दे अर्थात कम से कम हानि व ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने के लिए नियम लागू किया जाता है तथा लाभ का प्रतिशत बढ़ाने के लिए समय समय पर संशोधन किए जाते हैं

सरल शब्दों में किसी भी प्रकार का दोष या गलती ठीक करना संशोधन कहलाता है जो कि किसी भी क्षेत्र में हो सकता है उदाहरण के तौर पर यदि कोई पुस्तक छाप दी गई है तथा उसके नए संस्करण में कुछ उचित बदलाव कर अन्य जानकारियां भी डाली गई हैं तब बाद वाले संस्करण को संशोधित संस्करण कहा जाएगा जो कि प्रथम संस्करण से अधिक दुरूस्त होता है। इसी प्रकार सॉफ्टवेयर इत्यादि का एक संस्करण आने के बाद उसमें संशोधन कर नया संस्करण लाया जाता है व यह श्रृंखला चलती रहती है तथा सॉफ्टवेयर को अधिक से अधिक सरल व उपयोगी बनाया जाता है। संशोधन के अन्य पर्यायवाची हैं: शुद्ध करना, साफ़ करना, परिवर्तन, बदलाव, सुधार करना, ठीक करना, त्रुटि मुक्त करना, दुरूस्त करना इत्यादि। संशोधन को अंग्रेजी में अमेंडमेंट (Amendment) (ए.एम.ई.एन.डी.एम.ई.एन.टी.) कहा जाता है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...