(Samaan) समान का अर्थ Meaning in Hindi

वह जो किसी ना किसी रूप में बराबर हों समान कहलाते हैं। यह बराबरी व तुल्यता किसी भी रूप जैसे कि आकार के रूप में, गुणों के रूप में, मान के रूप में, दिखावट के रूप में, बल के रूप में, भार के रूप में या अन्य किसी भी रूप में हो सकती है। जैसे: दो स्थान जिनकी भूमि का उपजाऊपन बराबर हो तो उन्हें “सम-उपजाऊ भूमि” कहा जा सकता है जिसमें “सम” शब्द “समान” का सूचक है। इसी प्रकार “सम-कालीन” का अर्थ होता है समान काल में अर्थात वह क्रियाए जो एक ही समय में घटित हुई हो। सरल शब्दों में किन्ही दो या दो से अधिक वस्तुओं, पदार्थों इत्यादि में बराबरी/ समानता/ तुल्यता को समान कहा जाता है।

(Lagbhag) लगभग का अर्थ Meaning in Hindi

जो सटीक ना हो परन्तु सटीकता के करीब हो को दर्शाने के लिए लगभग शब्द का प्रयोग किया जाता है। अन्य शब्दों में जो करीब-करीब पूर्ण हो लेकिन वास्तव में पूर्णता को प्राप्त किए हुए ना हो लगभग कहलाता है। जैसे: यदि एक गिलास में पानी हो जो कि किनारों तक भरा हुआ ना होकर कुछ कम हो तो उसे “लगभग पूरा भरा गिलास” कहा जाएगा जिसमें लगभग शब्द उसकी पूर्णता की कमी को दर्शाता है यद्दपि यह ये नही बताता की पानी किनारों से कितना कम है। लगभग शब्द का प्रयोग अमूमन मौटे तौर पर किए गए आकलन के साथ किया जाता है तथा इस प्रकार के आकलन में सटीकता नही होती। जैसे यदि कहा जाए: हमारे गाँव में लगभग एक हजार घर हैं; तो इस वाक्य में “लगभग” शब्द दर्शाता है कि गाँव में एक हजार घर नही लेकिन एक हजार के करीब घर हो सकते हैं जो कि एक हजार से थोड़े कम भी हो सकते हैं और थोड़े ज्यादा भी।

(Banam) बनाम का अर्थ Meaning in Hindi

यह शब्द किसी प्रतिस्पर्धा में किन्ही दो प्रतिद्वंधियों के बीच का विरोध दर्शाने के लिए प्रयोग किया जाता है। बनाम का शाब्दिक अर्थ “विरूद्ध” होता है। यद्दपि यह विरोध कानूनी नियमों के अंतर्गत होता है व इसे वैध माना जाता है। विशेष रूप से बनाम शब्द किसी खेल प्रतियोगिता को दर्शाता है जैसे: भारत क्रिकेट टीम बनाम इंग्लैंड क्रिकेट टीम; अर्थात खेल प्रतिस्पर्धा में भारत की क्रिकेट टीम; इंग्लैंड क्रिकेट टीम के विरूद्ध। यह शब्द सदैव दो प्रतिस्पर्धियों के लिए ही प्रयोग किया जाता है।

द्वैतवाद क्या है / Dvaitavad kya hai / Dvaitavad meaning in Hindi

द्वैतवाद धर्म से संबंधित एक सिद्धांत है, जो कहता है कि मनुष्य और भगवान अलग-अलग वास्तविकताएं हैं, यह सिद्धांत मध्वाचार्य द्वारा दिया गया है, ...