(Jin Khoja Tin Paaiya) जिन खोजा तिन पाइया का अर्थ Meaning in Hindi

जिन खोजा: जिसने कोशिश की
तिन पाइया: उसने पा लिया
गहरे पानी पैठ: गहरे पानी मे उतरकर
मैं बपुरा: मैं असहाय
बूडन डरा: डूबने से डरता
रहा किनारे बैठ: किनारे पर बैठा रहा

कबीर जी इस दोहे द्वारा मनुष्यों को प्रयत्न करने के लिए प्रेरित करते हुए कहते हैं कि जिस व्यक्ति ने कोशिश की उसने कोई ना कोई सफलता हासिल की है। जैसे एक गौतखोर जब पानी की गहराई में उतरता है तो वह अधिक नही तो कम ही सही किन्तु सागर से मोती निकाल ही लाता है तथा इसके विपरीत वह गौताखोर जो पानी की गहराई देख कर डर गया व पानी की गहराई में उतर पाने का साहस ना कर सका उसे कुछ भी प्राप्त ना हुआ।

इसी प्रकार जब हम किसी कार्य को करने से पूर्व ही असफलता के भय से उसे करने की ईच्छा ही त्याग देते हैं तो हमें शून्य मिलता है। हो सकता है कोशिश करने मात्र से सफलता हमारे कदम चूमे यदि अधिक नही तो कुछ न कुछ तो कोशिश करने वालों को मिलता ही है तथा वे हर स्थिति में कोशिश न करने वालों से अधिक ही ग्रहण करते हैं। ये ही इस दोहे का भाव है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...