(Paanv) पाँव का अर्थ Meaning in Hindi

प्राणियों के शरीर का वह भाग जो टांग के अंत में होता है जिसका तलुआ जमीन से सट कर प्राणी को चलने व शरीर का भाग उठाने में सहायता करता है पाँव कहलाता है।

आमतौर पर पाँव पर ही सम्पूर्ण शरीर का भार टिका होता है तथा यह संख्या में एक से ज्यादा होते है। क्योंकि शरीर को स्थिर रखने के लिए एक पाँव का सदैव आधार बने रहना आवश्यक होता है। चलते समय यदि प्राणी का एक पाँव आगे बढ़ने के लिए जमीन से उठता है तो दूसरा आधार बनता है तथा शरीर को खड़े रहने के लिए सहारा देता है और जब दूसरा पाँव आगे बढ़ने के लिए उठता है तो पहला पाँव आधार बन कर कुछ पल के लिए स्थिर हो जाता है। कुछ प्राणियों में पाँव की संख्या दो होती है तथा कुछ में यह संख्या चार या चार से ज्यादा होती है।

इसके अतिरिक्त पाँव को आधार का पर्यायवाची भी कहा जा सकेता है। जैसे यदि कहा जाए "पहले अपने पाँव पर खड़े हो जाओ" तो इस वाक्य का अभिप्राय: होगा स्वयं का आधार बनाने की सलाह देना।

अन्य अर्थ:

पैर: पैर पाँव शब्द का ही दूसरा रूप है मात्र भाषा के अंतर के कारण दोनों शब्दो का अलग-अलग जन्म हुआ। पाँव तथा पैर एक ही शब्द है व एक दूसरे के प्रयायवाची बनते हैं।

पाँव को इंग्लिश में फुट (Foot) कहा जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...