आढ़ती का अर्थ | Aadti meaning in hindi

आढ़ती शब्द का अर्थ होता है-
कर्जदार या कृषि व्यापारी जिनसे किसान कर्ज़ लेकर अपनी फसल बोते हैं या बीजते हैं।ये किसानो के लिए बैंक की तरह काम करते हैं उन्हे ऋण देकर।
ऋण भी दो प्रकार के होते हैं-
1 ओपचारिक
2 अनोपचारिक
ओपचारिक ऋण वे होते हैं जो किसी सरकारी संस्था द्वारा चलाये जाने वाले बंकों से लिए जाते हैं। ये ऋण किसान को देखकर दिये जाते हैं यानि की उसकी क्षमता कितनी है वह कितना ऋण ले सकता है और कितने समय में दे सकता है। जिसके लिए उससे जमीन के कागजात गैरंटी के रूप में ले लिए जाते हैं। और यदि किसान ऋण वापस करणे करने में असफल रहता है। तो गारंटी के रूप में दी गयी जमीन को बैंक को नीलाम कर सकता है। इनकी ब्याज दर रेसर्वे बैंक ऑफ इंडिया निर्धारित करता है। और इनकी शर्ते अधिक सुगम और स्पष्ट होती हैं।
अनोपचारिक ऋण वे होते हैं जो किसी निजी संस्था द्वारा चलाये जाते हैं या किसी बड़े जमींदार से लिए जाते हैं जिसमे ऋण की कोई सीमा नहीं होती और किसान अपनी आवश्यकता के अनुसार ऋण लेता है और उससे गारंटी के रूप में कागजात लिए जाते हैं। और यदि किसान किसान ऋण देने में असफल रेहता है तो उसकी जमीन नीलाम कर दी जाती हैं। और कर्ज़ वापस ना कर सकने पर ब्याज लगता हैं और ब्याज पर भी ब्याज लगता है । और किसान कर्ज़ जाल में फंश जाता है। इनके द्वारा लगाए जाने वाले ब्याज की दर वे स्वयं निर्धारित करते हैं। इनकी ब्याज दर ऊंची होती हैं।
आढ़तियों का उदाहरण दूसरा है।
इससे इंग्लिश में lender कहते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...