चार दिन की चाँदनी फिर अँधेरी रात का अर्थ | Chaar din ki chandni phir andheri raat meaning in hindi

यह मुहावरा थोड़े समय के लिए आई खुशी को दर्शाने के लिए प्रयोग किया जाता है। जब हमें मालूम होता है कि कोई खुशी सीमित समय के लिए है तो इस सामयिक खुशी के लिए उपरोक्त मुहावरे को प्रयोग किया जाता है। चार दिन की चाँदनी फिर अँधेरी रात मुहावरे का अर्थ होता है सीमित अवधि के लिए आया अच्छा समय। जैसे किसी जश्न के कारण आई हुई रौनक का पता होता है कि यह सीमित समय के लिए है तो हम उस अस्थाई रौनक को दर्शाने के लिए इस मुहावरे का प्रयोग कर सकते हैं।
उदाहरण: 1). तुम चुनावों के समय का यह विकास देखकर खुश हो रहे हो लेकिन ये तो चार दिन की चाँदनी है इसके बाद फिर से वो ही अँधेरी रात होगी।
2). झूठे प्यार के चक्कर में मत पड़ना वरना फिर कहते फिरोगे चार दिन की चाँदनी थी अब तो अँधेरी रात है।

1 टिप्पणी:

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...