कान पर जूँ तक ना रेंगना का अर्थ | Kaan par ju tak na rengna meaning in hindi

जब किसी व्यक्ति पर कही गई बातों का तनिक भी असर नही होता तथा वो ना तो कही गई बात पर कोई प्रतिक्रिया करता और ना ही कही गई बात से किसी भी तरह से प्रभावित होता ऐसे व्यक्ति के लिए उपरोक्त मुहावरे का प्रयोग किया जाता है। कान पर जूँ तक ना रेंगना का अर्थ होता है बात अनसुनी करना या बात का कोई असर ना होना। यह मुहावरा उस व्यक्ति के लिए प्रयोग होता है जिस पर कहे-सुने का नकारात्मक या सकारात्मक किसी भी प्रकार से कोई प्रभाव नही पड़ता।
उदाहरण: 1). तुमको मैं कितनी देर से समझा रहा हूँ लेकिन तुम्हारे कान पर जूँ तक नही रेंगती।
2). परीक्षा में असफल होने पर मोहन के पिता ने उसे बहुत डाँटा लेकिन उसके कान पे जूँ तक ना रेंगी और अब भी वह पढ़ाई पर कोई ध्यान नही देता।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...