न उधी का लेना न माधो का देना का अर्थ | Na udhi ka lena na madho ka dena meaning in hindi

हर तरह का सबंध समाप्त करना तथा कोई लेन-देन, कहना-सुनना सब खत्म करना को न उधी का लेना न माधो का देना मुहावरे से दर्शाया जाता है। न उधी का लेना न माधो का देना मुहावरे का मतलब होता है कोई सबंध न रखना। उधी अर्थात वो जो हमारा ऋणी होता है जिससे हमें लेना होता है तथा माधो अर्थात वो जिसके हम ऋणी होते हैं जिसको हमें देना होता है दोनों ओर से लेने देने का व्यवहार समाप्त होने पर व्यक्त तटस्थ हो जाता है। उसे न तो किसी से कुछ लेने की आवश्यकता पड़ती है न किसी को कुछ देने की आवश्यकता पड़ती है। इस स्थिति को न उधी का लेना न माधो का देना मुहावरे से बयान किया जाता है। न उधी का लेना न माधो का देना मुहावरे का वाक्य में प्रयोग निम्न है।
उदाहरण: 1). सन्यासी जीवन में शांति इसलिए होती है क्योंकि वे सांसारिक सुख का मोह त्यागकर न उधी का लेना न माधो का देना नियम पर चलते हैं।
2). यहाँ विदेश में तुम इन चक्करों में मत पड़ो न उधी से लो न माधो को दो।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...