सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

दिसंबर 15, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

लोकतंत्र का चौथा स्तंभ का अर्थ | Loktantra ka chautha stambh meaning in hindi

हिंदी का यह वाक्य बहुत प्रसिद्ध है इसकी प्रसिद्धि का कारण इस वाक्य का अखबारों, दूरदर्शन, रेडियो तथा जानकारी के अन्य माध्यमों द्वारा बार-बार दोहराया जाना है। लोकतंत्र का चौथा स्तंभ वाक्य का हिंदी में स्पष्ट अर्थ होता है जनता के शासन का चौथा आधार। लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कौन है, यह क्या कार्य करता हैं तथा लोकतंत्र को इसकी आवश्यकता क्यों पड़ी? इन्हें समझने से पूर्व पहले तीन स्तंभो को समझना अनिवार्य है। 1). पहला स्तंभ (विधायिका): लोकतंत्र का पहला स्तंभ विधायिका है जो कि कानून बनाने का काम करती है लोगों द्वारा चुने गए महत्वपूर्ण व्यक्ति विधायिका के रूप में कानूनों का निर्माण करते हैं तथा पूरी जिम्मेवारी लेते हैं कि जो कानून वे बना रहे हैं वह हर तरह से जनता के हित में हो तथा किसी भी समुदाय का शोषण करने वाला न हो। यह कानून शासक व प्रजा दोनों के लिए मान्य होता हैं। 2.) दूसरा स्तंभ (कार्यपालिका): विधायिका द्वारा बनाए गए कानून को लोगों तक पहुँचाना व कानून को बरकरार रखना कार्यपालिका का काम होता है। 3). तीसरा स्तंभ (न्यायपालिका): बनाए गए कानूनों की व्याख्या करना व कानून का उल्लंघन होने पर सज़ा क