अखंडता का अर्थ | Akhandta meaning in Hindi

वह जो कभी खंडित ना हो अर्थात जिसे टुकड़ों में ना बांटा जा सके को अखंड कहा जाता है। जब कोई वस्तु अखंडता को प्राप्त कर लेती है तो वह कहीं से भी टूटी हुई नहीं रहती। हमारा देश एक अखंड देश है इसकी अखंडता को दर्शाने के लिए अखंड भारत शब्द को गुंजाया जाता है यहां पर भारत की अखंडता का अर्थ हर हिस्से का एक दूसरे से बंधा होना अर्थात जुड़ा होना है। जम्मू कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक और गुजरात से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक सारा भारत अखंड है यहां अखंड से तात्पर्य एकता से है। जब राष्ट्रपति प्रधानमंत्री या कोई भी जन सेवक अपने पद की शपथ ग्रहण करता है तो वह भारत को अखंड रखने की प्रतिज्ञा करता है। अखंडता एक हिंदी शब्द है तथा हिंदी में ही इसके अन्य अर्थ भी हैं जो कि इस प्रकार है: 1. वह जो कभी खंडित ना हो 2. वह जिसमें निरंतरता हो 3. वह जिसमें एकता हो। (अखंडता को अंग्रेजी में इंटीग्रिटी कहा जाता है)

अखंड शब्द का उदाहरण सहित वाक्यों में प्रयोग इस प्रकार हैं:

1. धार्मिक स्थलों पर अखंड पाठ करवाया जाता है जिसमें निरंतरता से पूरा धार्मिक अध्याय पढ़ा जाता है इसे बीच में एक बार भी से छोड़ा नहीं जाता। एक बार शुरू होने पर यह अंत तक पूरा पढ़ा जाता है बीच में रुकने से यह खंडित हो जाता है इसलिए धार्मिक नियमों के अनुसार इसकी अखंडता अनिवार्य है।

2. कई धार्मिक स्थलों पर अखंड ज्योत जलाई जलाई जाती है इसका मतलब यह होता है कि यह कभी भी बीच में बुझाई नहीं जाएगी एक बार यह प्रज्वलित होने के बाद निरंतर चलती रहती है अमर ज्योति ऐसी ही एक अखंड ज्योति है।

3. भारत में प्रत्येक वर्ष 4 अक्टूबर को  अखंडता दिवस मनाया जाता है इस दिवस पर प्रत्येक भारतीय नागरिक अपने देश की अखंडता की शपथ लेता है तथा इसे एकता के सूत्र में बांधे रखने की पूरी निष्ठा भाव से प्रयत्न करता है। हमारा देश विभिन्न संस्कृतियों भाषाओं का एक  मजबूत उदाहरण है। भारत के सिवा दुनिया में कोई भी ऐसा देश नहीं है जिसने इतनी सारी संस्कृतियों को मिलाकर अखंडता को प्राप्त किया हो।

4. चाहे हम कोई भी कार्य हाथ में लेते हैं तो हमारे मन में पूरी निष्ठा होनी चाहिए और हमारे प्रयत्नों में अखंडता होनी चाहिए हमें कोई भी लक्ष्य प्राप्त करने के लिए उसके लिए बिना रुके निरंतर प्रयास करने चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...