Anticipatory Bail Meaning in Hindi अग्रिम जमानत का अर्थ

एंटीसिपेट्री बेल या फिर अग्रिम जमानत किसी व्यक्ति द्वारा ली जाने वाली वो जमानत होती है जो वह व्यक्ति अपने गिरफ्तार होने से पहले लेता है अर्थात यदि किसी व्यक्ति पर कोई केस हो गया है और वह जेल जाने से पहले ही अपनी जमानत हासिल कर लेता है तो इस प्रकार की जमानत को इंग्लिश में एंटीसिपेट्री बेल तथा हिंदी में अग्रिम जमानत कहा जाता है। अग्रिम जमानत बहुत से ऐसे केसों में ली जाती है जहां व्यक्ति को विशेष तौर पर झूठे केस में फंसाया जा रहा हो ताकि वह जेल से बाहर रहकर अपने आप को निर्दोष साबित करने के लिए उचित कदम उठा सकें। एंटीसिपेट्री बेल रेगुलर बेल यानी कि सामान्य बेल से अलग होती है सामान्य बेल गिरफ्तारी होने के बाद ली जाती है इस प्रकार की बेल में व्यक्ति कुछ समय तक जेल में रहता है जिस कारण उसकी सामाजिक स्तर पर छवि चोटिल होती है।

एंटीसिपेट्री बेल किसी व्यक्ति द्वारा करवाई गई FIR के खिलाफ ली जाती है हालांकि व्यक्ति इस बेल का इंतजाम FIR दर्ज करवाने से पहले या कोई उसके खिलाफ FIR दर्ज करवा देगा इस शंका के चलते भी ले सकता है इसके लिए पीड़ित व्यक्ति को कोर्ट में अपील करनी होती है अगर सेशन कोर्ट या हाई कोर्ट व्यक्ति की एंटीसिपेट्री बेल को पास कर देता है तो उस व्यक्ति को जेल जाने की आवश्यकता नहीं होती है उसे सिर्फ कोर्ट में हो रही सुनवाई हेतु पेशी पर जाना होता है।

उदाहरण: मान लीजिए श्याम ने मोहन के खिलाफ झूठी FIR दर्ज करवाई हैं और वह मोहन को किसी झूठे केस में फंसाना चाहता है अब FIR के चलते पुलिस तुरंत कदम उठाते हुए मोहन को गिरफ्तार करेगी लेकिन यदि मोहन पुलिस के एक्शन लेने से पहले कोर्ट में अपील कर अग्रिम जमानत हासिल कर लेता है तो पुलिस के मोहन को गिरफ्तार करने के सभी अधिकार समाप्त हो जाएंगे और पुलिस मोहन को गिरफ्तार नहीं कर सकेगी। लेकिन कोर्ट में श्याम द्वारा दर्ज करवाई गई FIR पर केस चलेगा जिसमें मोहन को पेश होना होगा इससे सामाजिक स्तर पर मोहन की छवि धूमिल नहीं होगी यानी कि कोई ये नहीं कह सकेगा की मोहन जेल गया था क्योंकि इस प्रकार जेल जाने से निर्दोष व्यक्ति की सामाजिक छवि खराब हो जाती है।

यह भी पढ़ें:

सशक्तिकरण का अर्थ
कुटीर उद्योग का अर्थ
कलोल का अर्थ
अखण्डता का अर्थ
सूफियाना का अर्थ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...