Padya Meaning in Hindi पद्य का अर्थ

पद्य लेखन की उस कला को कहा जाता है जिसमें शब्दों को संगठित तरीके से तथा कविताओं के रूप में लिखा जाता है क्योंकि पद्य शैली में कोई बात या जानकारी अलग-अलग पदों में दी जाती है इसलिए पद से ही पद्य शब्द बना है प्राचीन समय के अधिकतर ग्रंथ, वेद व रचनाएं विशेषकर पद्य शैली में लिखी गई हैं। जिनमें कोई बात कहने या समझाने हेतु उसे सीधा न लिखकर पदों में लिखा गया है। यदि आप कोई लेख पढ़ रहे हैं और वह कविताओं के माध्यम से पदों में विभाजित है तो उसकी शैली को पद्य शैली कहा जाएगा। सरल शब्दों में कहा जाए तो क्रमबद्ध तरीके से मात्राओं, लय व शब्दों की संख्याओं का ध्यान रखते हुए लिखी गई कोई भी रचना पद्य कहलाती है।

यदि कोई व्यक्ति पद्य शैली की रचना पढ़ रहा है तो सामने वाले को उसकी भाषा समझने में थोड़ी कठिनाई आ सकती है तथा उसे इस प्रकार लगेगा कि पढ़ने वाला व्यक्ति लयबद्ध तरीके से बोल रहा है तथा स्मरण या जाप कर रहा है पद्य को अंग्रेजी में वर्स (Verse) कहा जाता है।

यह भी पढ़ें:

गद्य का अर्थ
गाना का अर्थ
पाठ का अर्थ
गुरु गोबिंद दोउ खड़े दोहा का अर्थ
कांड का अर्थ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...