Rashtriya Shok Meaning in Hindi राष्ट्रीय शोक का अर्थ

राष्ट्रीय शोक जिसे अंग्रेजी में नेशनल मॉर्निंग (National Mourning) कहा जाता है देश के किसी बड़े नेता या गणमान्य व्यक्ति के निधन पर दुख प्रकट करने हेतु घोषित किया जाता है। राष्ट्रीय शोक के जरिए राष्ट्रीय स्तर पर गणमान्य व्यक्ति की मृत्यु पर दुःख व संवेदना प्रकट की जाती है जिसने राष्ट्रीय हित में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है वैसे तो राष्ट्रीय शोक के लिए कोई भी समय सीमा निर्धारित नहीं है परंतु यदि आज तक भारत में राष्ट्रीय शोक का इतिहास देखा जाए तो आज तक कम से कम एक दिन और अधिक से अधिक 7 दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है जो कि विभिन्न राजनेताओं, पूर्व प्रधानमंत्री, पूर्व राष्ट्रपति तथा अपने-अपने क्षेत्र के गणमान्य व्यक्तियों के निधन पर घोषित किया जा चुका है।

राष्ट्रीय शोक की घोषणा के उपरांत सरकारी निर्णय पर 1 से 7 दिन का शोक घोषित किया जाता है तथा इस बीच सरकार के निर्णय पर सरकारी कार्यालय तथा कॉलेजों को बंद किया जाता है व पूरे राजकीय सम्मान के साथ गणमान्य विशेष व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया जाता है तथा राष्ट्रीय शोक के चलते छोटे-बड़े सभी सरकारी उत्सव रद्द कर दिए जाते हैं इसके अलावा दूरदर्शन तथा आकाशवाणी पर शोक धुन बजाई जाती है एक सबसे बड़ी बात उन सभी इमारतों पर जहां पर  नियमित रूप से राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है वहां पर राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका दिया जाता है जो कि राष्ट्रीय शोक का प्रतीक होता है।

यह भी पढ़ें:

कूटनीति का अर्थ
श्रोता का अर्थ
रूहानियत का अर्थ
पूजनीय का अर्थ
मसान का अर्थ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...