ओवरड्राफ्ट का अर्थ | Overdraft Meaning in Hindi

ओवरड्राफ्ट एक बैंकिंग सुविधा होती है जिसके अंतर्गत कोई भी व्यक्ति अपने बैंक अकाउंट से उतना पैसा निकाल सकता है जितना पैसा उसके बैंक अकाउंट में होता नहीं है यानी कि अपने बैंक में पड़ी सीमित राशि से अधिक राशि निकालना ओवरड्राफ्ट कहलाता है। बहुत से बैंक ओवरड्राफ्ट की सुविधा देते हैं जैसे मान लीजिए अभी आपके अकाउंट में 1 लाख रुपए हैं लेकिन आप डेढ़ लाख रुपए निकाल रहे हैं तो इसे कहा जाएगा ओवरड्राफ्ट। इसके लिए बैंक आपको यह विशेष सुविधा देता है। आप अपने व्यापार के आधार पर ओवरड्राफ्ट की लिमिट को घटा बढ़ा सकते हैं यह पूर्णता बैंक के नियमों पर डिपेंड करता है कि वह कितने ओवरड्राफ्ट सुविधा दे रहा है बहुत से बैंक यह सुविधा केवल अपने देश मे देते हैं और बहुत से बैंक यह सुविधा विदेशी स्तर पर भी देते हैं।

ओवरड्राफ्ट की सुविधा का फायदा तब होता है जब किसी व्यक्ति को पैसे की बहुत अधिक आवश्यकता हो लेकिन उसके बैंक अकाउंट में एक सीमित राशि पड़ी हो। ऐसी स्थिति में वह व्यक्ति ओवरड्राफ्ट सेवा की सहायता से अपने अकाउंट में रखी गई राशि के शून्य होने के बावजूद भी पैसे निकाल सकता है। यह पैसे उसे बैंक द्वारा प्रदान किए जाते हैं। यह सुविधा विशेषकर व्यापारियों को दी जाती है जिनका उपभोक्ताओं या वेंडर से पैसा आने में थोड़ा समय लगता है। मान लीजिए किसी व्यापारी का पैसा अगले माह आना है और उसे अभी पैसे की सख्त आवश्यकता है तो वह इस सेवा का प्रयोग कर सकता है और जब अगले माह उसके पैसे आएंगे तो वह बैंक को इन्हें मामूली ब्याज सहित वापिस लौटा देगा। बहुत से व्यापारी इस सुविधा के चलते बैंक की तरफ आकर्षित होते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...