सूट पंजाबी लिरिक्स का अर्थ | Suit Punjabi Lyrics Meaning in Hindi

सूट पंजाबी गायक जस्स मानक द्वारा पंजाबी सूट पहने हुए लड़की की तारीफ करते हुए गाया गया एक गाना है। इस गाने का पंजाबी लिरिक्स व हिंदी अर्थ निम्न है।

Jass Manak's Song Suit Punjabi Lyrics Meaning & Translation in Hindi :

ओ सूट आ पंजाबी जट्टी...
पाई फिरदी...
सारा डाउनटाउन पीछे...
लाई फिरदी...

पंजाबी जट्टी (पंजाबी लड़की) पंजाबी सूट
पहन कर घूम रही है...
उसने सारा डाउनटाउन पीछे लगा रखा है...

हो रोणकी सुबा दी फिरे...
हस खेड़ के...
मैं देखी नी कदे चुन्नी...
लाही सिर दी...

वह खुशमिजाज स्वभाव की है और हँसती खेलती हुई घूम रही है...
मैंने उसके सिर से चुन्नरी कभी उतरी हुई नही देखी...

ओ शनिवार नूं टोरंटो विच...
मारे गेड़ियाँ...
लब्ब दी आ पक्के ओह...
टिकाणे यार दे...

वो शनिवार को टोरंटो में चक्कर लगाती है...
अपने यार के पक्के ठिकाने ढूंढती है...

मोडां उत्ते खड़ कुड़ी टाइम चक दी...
कहँदी कड दे आ जान रिम तेरी कार दे...

मोड़ पर खड़ी होकर लड़की आने जाने का टाइम नोट करती है...
कहती है तेरी कार के रिम जान निकालते हैं...

तेरा गोरा गोरा रंग करे कहर गोरिए...
मारे मुंडयां दे दिलां उत्ते फायर गोरिए...

गोरी तेरा गोरा रंग कहर ढाता है...
और लड़कों के दिलों पर फायर करता है...

तेरी अखां दे इशारे ने दिल लुटया...
अदे टाउन च पवाते साडे वैर बल्लीए...

तेरी आँखों के इशारे ने दिल लूट कर...
हमारी आधे शहर में दुश्मनी करवा दी है...

माणक नूं पटट्णे लई भेजे ऑफ़रां...
एनी छेती नईयो कित्ते जट्ट दिल हारदे...

माणक (जस्स मानक) को पटाने के लिए ऑफर भेज रही है...
इतनी जल्दी जट्ट दिल नहीं हारते...

हो एह वी धालीवाल निरा आ बारूद जट्टीए...
मुंडा माणकां दा पट्टे ना खरूद जट्टीए...
सोने जेहा चक्की फिरां दिल नखरो...
जट्ट पांवे आ सुबा दा थोड़ा रूड जट्टीए...

ये धालीवाल (एक नाम) भी पूरा बारूद है...
लड़का मानकों का कभी गुंडागर्दी नहीं करता...
दिल सोने जैसा लेके घूम रहा हूँ...
हालांकि स्वभाव मेरा जरा गर्म है...

मित्तरां दे दिल बड़े औखे जित्तणे...
सोची ना तूं जट्ट फोकियाँ ही मारदे...

हमारा दिल जीतना बड़ा मुश्किल काम है...
मत सोचना की जट्ट फेंक रहा है...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्ण शंकर का अर्थ | Varna Shankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...