लौहपथगामिनीसूचकदर्शकहरितताम्रलौहपट्टिका का अर्थ meaning in Hindi

यह शब्द अब तक का हिंदी का सबसे बड़ा शब्द है तथा रेलवे के सृजन के बाद अनाधिकारिक रूप से हिंदी शब्दकोष का हिस्सा बना है। हालांकि इस शब्द का प्रयोग नाम मात्र या नगण्य है परन्तु क्योंकि प्रचलित रूप से इस शब्द को हिंदी का सबसे बड़ा ज्ञात शब्द होने का दर्जा प्राप्त है इसलिए हिंदी भाषी लोग इस शब्द के बारे में जानकारी रखते हैं। इस सयुंक्त शब्द में प्रयुक्त सभी शब्दों का अलग-अलग मतलब इस प्रकार है:

लौह: लोहा
पथ: रास्ता
गामिनी: गमन करने वाली/ चलने वाली
सूचक: सूचना देने वाला
दर्शक: दिखाने वाला/ निर्देश देने वाला
हरित: हरे रंग का
ताम्र लौह: तांबा मिश्रित लोहा
पट्टिका: ठोस चकोर चादर या तख्ती

इस तरह उपरोक्त शब्द "लौहपथगामिनीसूचकदर्शकहरितताम्रलौहपट्टिका" का अर्थ होता है लौह पथ गामिनी को अर्थात रेल को लिखित निर्देश देने वाला हरे रंग का बोर्ड। यह बोर्ड रेल चालक को निर्देश देने के लिए पटरियों के किनारे पर लगाया जाता है।

(Buchadkhana) बूचड़खाना का अर्थ meaning in Hindi

बूचड़खाना शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है पहला बूचड़ तथा दूसरा खाना। बूचड़ का मतलब होता है कसाई। अर्थात वह व्यक्ति जो अपने लाभ या धन प्राप्ति के लिए जीवित प्राणियों को तीखे औजारों से काट कर उनका मांस निकलता है तथा उन प्रणियों की मृत्यु का कारण बनता है। दूसरा शब्द है खाना। अर्थात कोना या जमीन का कोई भाग। इस प्रकार इन दोनों शब्दों के मिलने से बूचड़खाना शब्द बनता है जिसका अर्थ है वह स्थान जहाँ कसाई लोग अपना धंधा करते है तथा अपने लाभ हेतु जीवों को काटते है। बूचड़खाना का हिंदी में मतलब होता है कसाईखाना (इंग्लिश: स्लॉटर हाउस)। बूचड़खाना में मूलतः मवेशियों को ही काटा जाता है तथा उनका मांस साफ करके बेचा जाता है। बूचड़खाने के मालिक इसे एक व्यापार मानते हैं जबकि शाकाहारी लोग इसे जीव हत्या मानकर धर्मानुसार पाप की संज्ञा देते हैं। विश्व में मांसाहारी लोगों की तादाद भी अधिक है जिस कारण बूचड़खानों का व्यापार निरंतर चलता रहता है। कुछ देशों में यह अवैध घोषित है जबकि कुछ देशों में इसे अवैध घोषित किए जाने की मांग उठती रहती है। वहीं कई देश ऐसे भी हैं जहां बूचड़खानों को सरकारी वैधता मिली हुई है।

उदाहरण: 1). भारत का उत्तर प्रदेश राज्य बूचड़खानों का गढ़ बन चुका है।
2). अवैध बूचड़खानों को बढ़ती सँख्या चिंता का विषय है क्योंकि इनमें साफ सफाई का ख्याल नही रखा जाता जिस कारण इनके आसपास के क्षेत्रों में बीमारी फैलने का खतरा बना रहता है।

(Maveshi) मवेशी का अर्थ meaning in Hindi

मवेशी उन पशुओं को कहा जाता है जिनके सींग होते हैं तथा जिन्हें दूध, मांस व रेशा जैसी बिकने योग्य वस्तुओं की प्राप्ति के लिए पाला जाता है। आमतौर पर मवेशी पशु घूमकड़ प्रवृति के होते हैं तथा इन्हें बांध कर रखा जाता है। मवेशियों के उदाहरण के तौर पर हम गाय, भैंस, बकरी जैसे पालतू जानवरों के नाम ले सकते हैं। मवेशी का हिंदी में मतलब होता है चौपाया जानवर (अर्थात जिसके चार पाँव हो) या पालतू व घरेलु जानवर (जो घर मे पाले जाते हैं) (इंग्लिश: कैटल)। उत्तरी भारत में इन्हें डाँगर कहा जाता है। मवेशियों को प्राचीन काल से ही दूध, मांस व रेशा प्राप्ति के लिए पाला जाता रहा है मवेशीपालन कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों का प्रमुख व्यवसाय है क्योंकि इन क्षेत्रों में चारा आसानी से मिल जाता है जो मवेशियों का मुख्य भोजन होता है। कृषि क्षेत्र के लोग इन्हें दूध प्राप्ति के लिए पालते हैं। नर पशु जैसे कि बैल, घोड़ा या भैंसा दूध नही देते इसलिए इन्हें रेहड़ी के साथ बांधकर रेहड़ी खींचने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। उसी प्रकार भेड़ जैसे मवेशी दूध नही देते इन्हें ऊन प्राप्ति के लिए पाला जाता है। इसके अतिरिक्त ऐसे मवेशी जिनसे दूध व रेशे इत्यादि की प्राप्ति नही की जा सकती या जो किसी कारण वश इन प्राप्तियों में सहायक न हो उन्हें बूचड़खाने में भेज कर उनसे मांस प्राप्त किया जाता है। बूचड़खानों को बहुत से देशों में अवैध माना जाता है।

उदाहरण: 1). मवेशियों का पालन अर्थात पशुपालन एक लाभकारी व्यवसाय है।
2). मवेशियों को रखे जाने की घर में अलग व्यवस्था बनाई जानी चाहिए।
3). आग लगने की अवस्था में घर में बंधे मवेशियों को खोल देना चाहिए।

(Manikya Malaraya Poovi) माणिक्य मलराया पूवी का अर्थ meaning in Hindi

माणिक्य मलराया पूवी एक मलयालम गाना है जो कि सोशल मीडिया के जरिए हिंदी भाषी क्षेत्रों तक पहुँचा है। इस गाने में मुख्य अभिनेत्री की भूमिका निभा रही प्रिया प्रकाश वैरियर भारत के केरल राज्य की वासी हैं उन्ही की सोशल मीडिया पर बनी मजबूत पकड़ ने इस मलयालम गाने को विश्व भर के हिंदी भाषी लोगों तक पहुँचाया है। दरअसल यह एक गाना मात्र ना होकर इस्लाम धर्म के प्रवर्तक पैगम्बर मोहम्मद व उनकी पहली पत्नी खदीजा बीबी के बीच हुए प्रेम की सच्ची कहानी बयां करती कथा है जिसे सुरों में पिरोया गया है। केरल राज्य में यह एक प्राचीन लोक गीत है जिसे वहाँ की शादियों में दशकों से गाया जाता रहा है। माणिक्य मलराया पूवी (इंग्लिश: अ गर्ल लाइक पर्ल फ्लावर) गाने का हिंदी में मतलब इस प्रकार है:

माणिक्य मलराया पूवी
फूलों और मोतियों जैसी लड़की
महदीयाम खदीजा बीबी
खूबसूरत खदीजा रानी
मक्क्यन पुन्य नाटिल
मक्का जैसे पावन शहर में
विलसीडुम नारी
रहने वाली महारानी
खातीमनविये विलिच
उन्होंने आखिरी नबी मोहम्मद को बुलाया
कच वडतीन अयच
और अपना व्यापार बढ़ाने के लिए इन्हें भेजा
कंड नीरम खलबीनुलिल
मोहमदिचु मोहमदिचु
वे पहली नज़र देख कर ही उन्हें चाहने लगी
कचवडवुम कडिन्य मुत्तुरसलुलवम
जब सौभाग्यशाली रसूल अल्लाह अभियान से वापिस आए
कलियाणा लोजनयिकयाए बीबी तुनिन्यु
तब नबी से बीबी खदीजा शादी करना चाहती थी

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना क्या है | PM Kisan Samman Nidhi Scheme Information in Hindi

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि की छठी किस्त जारी की गई है इसके तहत प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ...