उपनिवेशवाद का अर्थ | Upniveshvad Meaning in Hindi

उपनिवेशवाद भौगोलिक क्षेत्र से जुड़ा एक शब्द है यह एक प्रक्रिया है जिसका सबसे अधिक चलन 15 वीं से 20 वीं शताब्दी के मध्य तक रहा। आइए जानते हैं कि आखिर उपनिवेशवाद होता क्या है। उपनिवेशवाद की परिभाषा के अनुसार एक भौगोलिक क्षेत्र या एक देश के लोगों का दूसरे देश में जाकर एक समूह स्थापित करना या एक विशेष स्थान पर काबिज हो जाना जिससे वे उस नए देश में अपना जीवनयापन कर सकें व व्यापार बढ़ा सकें उपनिवेशवाद कहलाता है इसे उदाहरण सहित समझने का प्रयास करते हैं।
उपनिवेशवाद का लाभ सबसे ज्यादा ब्रिटिश लोगों ने उठाया है तो उन्हीं का उदाहरण लेते हैं मान लीजिए कुछ ब्रिटिश व्यक्ति समूह बनाकर किसी दूसरे देश में जाकर अपनी एक कॉलोनी स्थापित कर लेते हैं और धीरे-धीरे वहां अपनी खुद की जमीन खरीद कर खुद का व्यापार शुरू कर देते हैं तो इसे कहा जाएगा उपनिवेशवाद यानी कि उपनिवेश करना। इससे वे धीरे-धीरे उस देश में अपना व्यापार बड़ा कर लेंगे व अपनी भाषा, संस्कृति व शिक्षाओं का प्रसार करना शुरू कर देंगे इस क्रिया को उपनिवेशवाद कहा जाता है। इससे मातृदेश (जहाँ से ब्रिटिश आए हैं) की शक्ति बढ़ती है व उनकी संस्कृति पूरे विश्व में फैलती है। इसके अलावा उपनिवेशवाद कभी-कभी मातृदेश में अपराध कर चुके लोगों के लिए सजा से बचने का एक रास्ता भी बनता है। किसी भी देश में उपनिवेशवाद का विरोध होना स्वाभाविक है क्योंकि इसका उस देश के क्षेत्रीय लोगों की संस्कृति, रक्षा व अधिकारों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...