लीडरशिप फनल का अर्थ | Leadership Funnel Meaning in Hindi

लीडरशिप फनल एक अंग्रेजी का शब्द है जो दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है पहला शब्द है लीडरशिप तथा दूसरा है फनल। इसमें लीडरशिप शब्द का अर्थ होता है नेतृत्व अर्थात एक व्यक्ति द्वारा बहुत से लोगों को साथ लेकर चलना किसी एक उद्देश्य की प्राप्ति के लिए। इसमें जो व्यक्ति सबसे आगे होता है और रास्ता बनाता है उसको लीडर या नेता कहा जाता है तथा नेता द्वारा सभी लोगों को साथ लेकर चलने की तकनीक को उस नेता का नेतृत्व कहा जाता है। दूसरा शब्द है फनल जिसका अर्थ होता है एक छोटा सा होल या कीप। जो बहुत सारी भीड़ में से बहुत ही छंटे हुए लोगों को आगे जाने दे। ठीक वैसे ही जैसे हम किसी बोतल को भरने के लिए कीप का इस्तेमाल करते हैं और वह बहुत सारे तेल में से बहुत कम तेल को धीरे-धीरे एक छोटे से होल द्वारा गुजरने देती है ताकि वह नीचे ना फैले। कभी-कभी कीप में एक छलनी भी बना दी जाती है जो तेल की अशुद्धि को होल में से गुजरने नही देती। आइए अब देखते हैं आखिर इन दोनों शब्दों को मिलाकर बनाए गए "लीडरशिप फनल" शब्द का सयुंक्त अर्थ क्या निकलता है।

लीडरशिप फनल का मतलब है एक ऐसा स्थान जहां से बहुत से लोगों में से किन्हीं चुनिंदा व्यक्तियों को चुना जाएगा जो नेतृत्व करेंगे। क्योंकि नेतृत्व करने वाले व्यक्तियों की सँख्या सदैव फॉलो करने वाले व्यक्तियों से कम होती है। इसलिए इसे लीडरशिप फनल नाम दिया जाता है जिसमें बहुत सारे व्यक्तियों में से बहुत कम लोगों को चुना जाता है जो आगे जाकर नेतृत्व करते हैं। लीडरशिप फनल में नेतृत्व करने के गुर सिखाए जाते हैं तथा जो व्यक्ति इस प्रकार के फनल में हिस्सा लेता है वह नेतृत्व के गुर सीखता है तथा बाहर आकर किसी एक उद्देश्य की प्राप्ति के लिए लोगों का नेतृत्व करता है। इस प्रकार के लीडरशिप फनल में मुख्यत: वे लोग जाते हैं जो अपना स्वयं का व्यापार बड़े स्तर पर फैलाना चाहते हैं।

स्ट्रिंग ऑफ पर्ल्स का अर्थ | String of Pearls Meaning in Hindi

इस शब्द के मुख्य रूप से दो अर्थ निकलते हैं पहला है इसका शाब्दिक अर्थ। इस शब्द के शाब्दिक अर्थ के अनुसार यह 3 शब्दों से मिलकर बना हुआ है पहला शब्द है "स्ट्रिंग" जिसका मतलब होता है माला, रस्सी, धागा, पतली तार। तथा दूसरा शब्द है "ऑफ" जिसका मतलब होता है "की" और तीसरा शब्द है "पर्ल्स" जिसका अर्थ होता है मोती। तो इस प्रकार इस शब्द का सयुंक्त हिंदी अर्थ निकलता है मोतियों की माला। यह तो हुआ इस शब्द का शाब्दिक अर्थ। अब जानते हैं वह अर्थ जिसे जानना हमारे लिए महत्वपूर्ण है दरअसल स्ट्रिंग ऑफ पर्ल्स नाम चीन द्वारा बनाए जा रही मिलिट्री बेस की एक श्रृंखला को दिया गया है जिसे वह हिंद महासागर में बना रहा है। इस शब्द के अनुसार मोती उन स्थानों को कहा गया है जहाँ "चीन के मिलिट्री बेस" स्थित हैं और जब उन सभी स्थानों को बिंदु मानकर आपस में मिलाया जाता है तो एक रेखा बनती है जो गले में डली हुई माला की तरह दिखाई देती है।

यह वह रुट है जिसका प्रयोग चीन बिना किसी रोक टोक के कर सकता है विशेष बात यह है कि यह रुट हिन्द महासागर में भारत को चारों तरफ से घेरता है। इसे माना जा रहा है कि यह चीन द्वारा चली गई एक चाल है जो वह दक्षिणी एशिया में अपने सबसे बड़े प्रतिद्वंदी भारत को घेरने के लिए बना रहा है और यहीं से इस शब्द का प्रचलन शुरू हुआ। चीन की इसी तथाकथित चाल को स्ट्रिंग ऑफ पर्ल्स के नाम से जाना जाता है।

ओ.बी.ओ.आर. का अर्थ | OBOR Meaning in Hindi

OBOR एक संक्षिप्त नाम है जिसकी फुल फॉर्म होती है वन रोड वन बेल्ट। यह भारत के पड़ोसी देश चीन द्वारा चलाई जा रही एक महत्वकांक्षी योजना है जिसके तहत वह चाहता है कि उसकी दुनिया के सभी देशों के बाजार तक सीधी पहुँच हो जाए ताकि वह अपने आर्थिक विकास में तीव्रता ला सके। चीन दुनिया का नया मैन्युफैक्चरिंग हब बन चुका है और वह प्रोडक्शन में सबसे अग्रणी है। अब उसे ग्राहक चाहिए और यदि वह वायुमार्ग या टुकड़ों में बने मार्ग का प्रयोग कर अपना सामान दूसरे देशों में पहुँचाता है तो उसे खर्च भी अधिक आता है और समय भी ज्यादा लगता है। इसलिए चीन एक ऐसा वैश्विक जल और भू-मार्ग बना रहा है जिसके जरिए वह सीधे रूट से अपना सामान किसी भी देश के बाजार तक पहुंचा सके। चीन इस रोड के जरिए अपनी पहुँच मध्य एशिया और यूरोप के देशों तक बनाना चाहता है।

चीन की इसी परियोजना को वन रोड वन बेल्ट कहा जाता है और इसे संक्षिप्त रूप में ओ बी ओ आर (OBOR) के नाम से जाना जाता है और क्योंकि भारत पर चीन की इस परियोजना का सीधा प्रभाव पड़ता है इसलिए भारत में यह शब्द प्रचलित हो गया है।

साईं लिरिक्स का अर्थ | Sai Lyrics Meaning in Hindi

साईं सूफी गायक सतिंदर सरताज द्वारा गाया गया एक रूहानी गाना है। इस गाने का पंजाबी लिरिक्स व हिंदी अर्थ निम्न है।

Satinder Sartaj Sai Song Lyrics Meaning & Translation in Hindi :

जदों इश्क़ दे कम्म नूं हथ लाइए...
पहलां रब्ब दा नाम ध्याइये जी...
तदों शायरी शायर दे वल्ल होवे...
जदों इसज़्म हज़ूर तों पाइए जी...
पल्ले दौलतां होण तां वंड दईए...
ओह... बंदी छोड़याँ ना शडवाईए जी...
वारिस शाह रल्ल नाल प्यारेयाँ दे...
नवी इश्क दी वाट चलाइए जी...

जब प्यार के काम को हाथ लगाएं...
सबसे पहले ईश्वर के नाम का ध्यान कीजिए...
शायरी तभी शायर के करीब होगी...
जब इसका हुनर ईश्वर जे मिला हो...
पास दौलत हो तो बांट दीजिए...
लेकिन खुदा की बंदिगी कोई छुड़ाए तो भी ना छोड़िए...
वारिस शाह प्यारों के साथ मिलकर...
नई प्यार की रस्म चलाइए...

कोई अली आखे...
कोई वली आखे...
कोई कहे दाता सच्चे मालकां नूं...
मैनूं समझ ना आवे की नाम देवां...
इस गोल चक्की देयाँ चालकां नूं...
रूह दा असल मालक ओही मनिए जी...
जिहदा नाम लइए तां सरूर होवे...
अखां खुलियाँ नूं महबूब दिसे हाय...
अखां बंद होवण तां हज़ूर होवे...

कोई अली कहे...
कोई वली कहे...
कोई उस सच्चे मालिक को दाता कहता है...
मुझे समझ नही आती की मैं क्या नाम दूँ...
इस गोल चक्की (पृथ्वी) को चलाने वाले को...
रूह का असली मालिक उसी को मानना चाहिए...
जिसका नाम लेने पर सरूर चढ़े...
आँखे खुली हो तो महबूब दिखे...
आँखे बंद हो तो खुदा दिखे...

कोई सौण वेले...
कोई नहाऊण वेले...
कोई गौण वेले...
तैनूं याद करदा...
इक्क नज़र तूं मेहर दी मार साईं...
सरताज वी खड़ा फरियाद करदा...

कोई सोने के समय...
कोई नहाने के समय...
कोई गाने के समय...
तुझे याद करे...
एक मेहर की नजर डाल साईं...
सरताज खड़ा तेरी फरियाद कर रहा है...

साईं... वे साडी फ़रयाद तेरे ताईं...
साईं... वे बाहों फड़ बेरा बन्ने लाईं...
साईं... वे मेरेयाँ गुनाहां नूं लुकाईं...
साईं... वे हजरा हजूर वे तू आईं...

साईं... तुझसे मेरी फरियाद है...
साईं... मेरी बांह पकड़ कर मेरा बेड़ा पार करवा...
साईं... मेरे गुनाहों को छिपा...
साईं... हजर हजूर में तू आना...

साईं... वे फेरा मस्कीना वल्ल पाईं...
साईं... वे बोल खाक सारां दे पुगाईं...
साईं... वे हक्क विच फैसले सुनाईं...
साईं... वे होली होली खामियाँ घटाईं...
साईं... वे मैनूं मेरे अंदरों मुक़ाईं...
साईं... वे डिगिए तां फड़ के उठाईं...
साईं... वे वेखी ना भरोसा आजमाईं...
साईं... वे औखे सौखे राहां चों कड़ाईं...

साईं... मस्कीना कि तरफ आना...
साईं... सबके बोल पुगाना...
साईं... हक में फैसले सुनाना...
साईं... धीरे धीरे कमियां घटाना...
साईं... मुझे मेरे मन से "मैं" (अहंकार) को मिटाना...
साईं... अगर गिरें तो पकड़ कर उठाना...
साईं... देखना हमारा भरोसा मत आजमाना...
साईं... मुश्किल राहों से निकलना...

साईं... वे कला नूं होर चमकाईं...
साईं... वे सुरां नूं बिठादे थाओं थाईं...
साईं... वे ताल विच तुरना सीखाईं...
साईं... वे साज रूस गए तां मनाईं...
साईं... वे इहना नाल आवाज़ वी रलाईं...
साईं... वे अखरां दा मेल तूं कराईं...
साईं... वे कन्नी किसे गीत दी फड़ाईं...
साईं... वे शब्दां दा साथ वी दवाईं...
साईं... वे नगमे नूं फड़ के जगाईं...
साईं... वे शायरी च असर वी दिखाईं...

साईं... कला को ओर चमकाना...
साईं... सुरों को उनके स्थान पर बिठाना...
साईं... ताल में चलना सिखाना...
साईं... साज रूठ जाएं तो मनाना...
साईं... इनके साथ आवाज भी मिलाना...
साईं... अक्षरों का मिलान भी करवाना...
साईं... किसी गीत का कोना पकड़ाना...
साईं... शब्दों का साथ भी दिलवाना...
साईं... नग्में को पकड़ कर जगाना...
साईं... शायरी में असर भी दिखाना...

साईं, वे जज्बे दे वेल नूं बदांईं...
साई, वे घुट घुट सब नूं पिलाईं...
साईं, वे इश्के दा नशा वी चढ़ाईं...
साईं, वे सैर तूं ख्याला नूं कराईं...
साईं, वे तारेयां दे देश लैके जाईं...
साईं, वे सूफियां दे वांगरा नचाईं...
साईं, वे असी साज बैठे चाईं चाईं...
साईं, वे थोड़ी बहोती अदा वी सीखाईं...
साईं, वे मेरे नाल नाल तूं वी गाईं...
साईं, वे लाज सरताज दी बचाईं...

साईं... जज्बे की बेल को बढ़ाना...
साईं... घुट घुट सब को पिलाना...
साईं... इश्क का नशा भी चढ़ाना...
साईं... सैर ख्यालों को करवाना...
साईं... तारों के देश लेके जाना...
साईं... सूफियों की तरह नचाना...
साईं... साज उत्सुकता के साथ बैठे हैं...
साईं... थोड़ी बहुत अदा भी सिखाना...
साईं... मेरे साथ साथ तू भी गाना...
साईं... लाज सरताज की बचाना...

साईं, वे भुलेयां नूं उंगली फड़ाईं...
साईं, वे अग्गे होके राहां रोशनाईं...
साईं, वे हनेरियाँ च पल्ले ना छड़ाईं...
साईं, वे ज़िंदगी दे बोझ नूं चुकाईं...
साईं, वे फिकरां नूं हवा च उड़ाईं...
साईं, वे सारे लग्गे दाग वी धुंआईं...
साईं, वे सिले सिले नैनां नूं सुकाईं...
साईं, वे दिलां दे गुलाब महकाईं...
साईं, वे बस पट्टी प्यार दी पढाईं...
साईं, वे पाक साफ रूहां नूं मिलाईं...
साईं, वे बच्चेयाँ दे वांगु समझाईं...
साईं, वे माड़े कम्मों घूर के हटाईं...
साईं, वे खोटेयाँ नूं खरे च मिलाईं...
साईं, वे लोहे नाल पारस घसाईं...
साईं, वे मेहनतां दे मूल वी पवाईं...

साईं... भूले हुओं को उँगली पकड़ाना...
साईं... आगे होकर राहे रोशन करना...
साईं... अंधेरों में पल्ले (दामन) न छुड़ाना...
साईं... जिंदगी का बोझ उठवाना...
साईं... फिक्र को हवा में उड़ाना...
साईं... लगे हुए दाग भी धुलवाना...
साईं... भीगे हुए नैनों को सुखाना...
साईं... दिलों के गुलाब महकाना...
साईं... पढ़ाई प्यार की पढ़ाना...
साईं... पाक साफ (पवित्र) रूहों को मिलाना...
साईं... बच्चों की तरह समझाना...
साईं... बुरे कामों से घूर के हटाना...
साईं... खोटे को खरे में मिलाना...
साईं... लोहे को पारस से घिसाना...
साईं... मेहनत का मोल भी पड़वाना...

साईं, वे माड़ेयां दी मंडी ना विकाईं...
साईं, वे देखी हूण देर ना लगाईं...
साईं, वे दरां ते खड़े आं खैर पाईं...
साईं, वे मेहराँ वाले मीह वी वरसाईं...
साईं, वे अकलां दे कड़े वी भराईं...
साईं, वे गुबंद गुरूर दे गिराईं...
साईं, वे अग्ग वांगु हौसले बघाईं...
साईं, वे अंबरा तों सूच वी मंगाईं...
साईं, वे आपे आवाज मार के बुलाईं...
साईं, वे हूण सानूं कोल वी बिठाईं...
साईं, वे आपणे ही रंग च रंगाईं...
साईं, वे हर वेले करां साईं साईं...
साईं, वे तोते वांगु बोल वी रटाईं...
साईं, वे आत्मा दा दिवा वी जलाईं...
साईं, वे अनहद नाद तों बचाईं...
साईं, वे रूहानी कोई तार छेड़ जाईं...
साईं, वे सच्ची सरताज ही बनाईं...

साईं... बुरे लोगों की मंडी में ना बिकवाना...
साईं... देखना अब देर ना लगाना...
साईं... तेरे दर पर आकर खड़े हैं...
साईं... अपनी मेहर की बारिश बरसाना...
साईं... अक्ल का घड़ा भी भराना...
साईं... गुरूर के गुबंद भी गिराना...
साईं... आग की तरह हौसले धधकाना...
साईं... अम्बर (आकाश) से पवित्रता मंगवाना...
साईं... आप आवाज देकर बुलाना...
साईं... हमको पास भी बिठाना...
साईं... अपने रंग में रंगाना...
साईं... हर दम साईं साईं करूँ...
साईं... मुझे तोते की तरह रटवाना...
साईं... आत्मा का दिया भी जलाना...
साईं... अनहद नाद से बचाना...
साईं... रूहानी तार छेद जाना...
साईं... सच में सरताज ही बनाना...

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना क्या है | PM Kisan Samman Nidhi Scheme Information in Hindi

हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि की छठी किस्त जारी की गई है इसके तहत प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ...