भाषाविद का अर्थ | Bhashavid Meaning in Hindi

भाषाविद उस व्यक्ति को कहा जाता है जो भाषाओं के प्रति विशेष रुचि रखता हो और उसे बहुत सी भाषाओं का ज्ञान हो। अधिक से अधिक भाषाओं के ज्ञान को प्राप्त करने की रूचि रखने वाला या ज्ञान रखने वाला व्यक्ति भाषाविद कहलाता है। भाषाविद मुख्य तौर पर प्राचीन भाषाओं पर विशेष नजर रखता है तथा उन को वर्तमान भाषा में परिवर्तित कर उनके सही अर्थ हमें समझाता है भाषाविद को ज्ञान होता है कि भाषा ने शुरू से लेकर अब तक किस प्रकार से विकास किया है और कैसे एक भाषा दूसरी में बदलते हुए आज की वर्तमान भाषा में परिवर्तित हुई है।

उदाहरण के तौर पर हम संस्कृत और हिंदी को देख सकते हैं संस्कृत से ही बहुत सी भाषाएं निकली है और हिंदी भी उन्ही में से एक हैं तो यदि हम ध्यान से देखेंगे तो हमें संस्कृत और हिंदी में बहुत ही समानताएं मिलेंगी और इन्हीं समानताओं के आधार पर भाषाविद विकास क्रम का विश्लेषण करते हैं और जानते हैं कि कैसे भाषा बदली है और यदि हम पुरानी भाषा में कोई शब्द पढ़ रहे हैं तो भाषाविद उसे बदलकर हमें बताता है कि अब की भाषा में कस शब्द का अर्थ क्या बन चुका है इस प्रकार हम कह सकते हैं कि भाषाविद को भाषा के बारे में संपूर्ण ज्ञान होता है और वह भाषा के प्रति अपनी पूरी रुचि रखता है भाषाविद को अंग्रेजी में लिंग्विस्ट (Linguist) कहा जाता है।

सभ्यता का अर्थ | Sabhyata Meaning in Hindi

सभ्यता शब्द "सभ्य" का विस्तार रूप है इसलिए सभ्यता को समझने से पहले हमें "सभ्य" शब्द को समझना होगा। व्यक्ति द्वारा मानवीय व्यवहारों के अनुरूप रहने के तरीके को "सभ्य" कहा जाता है यानी कि वह बौद्धिक क्षमता व व्यवहार जो मनुष्य को पशुओं से अलग बनाता हैं और मनुष्य को मनुष्य बनाता है को "सभ्य" कहा जाता है और इसी तरीके को समाज में लागू करने के लिए बनाई गई सामाजिक व्यवस्था "सभ्यता" कहलाती है। सरल शब्दों में कहें तो एक मानवीय समूह द्वारा समाज में रहने के लिए जिन तौर तरीकों को अपनाया जाता है उन तौर तरीकों को सयुंक्त रूप से सभ्यता कहा जाता है।

उदाहरण के तौर पर हम सिंधु घाटी सभ्यता या वैदिक सभ्यता को ले सकते हैं सिंधु घाटी सभ्यता अपने तरीकों से समाज को बांटती थी और वैदिक सभ्यता अपने अलग तरीकों से समाज को बांटती थी। ये दोनों सभ्यताएं अपने बनाए हुए तौर तरीकों के अनुसार ही जीवन यापन करती थी। वैदिक सभ्यता वेदों से संबंधित थी जबकि सिन्धु घाटी सभ्यता स्वयं के सामाजिक मूल्यों पर आधारित थी व उन्हीं को अपना मूल मानकर उन्हीं के अनुसार कार्य करती थी। यद्यपि दोनों सभ्यताएं मनुष्यों ने ही बनाई थी लेकिन फिर भी दोनों का समाजिक, आर्थिक, राजनीतिज व सांस्कृतिक व्यवहार अलग था। हालांकि सभी सभ्यताओं के निर्माण का उद्देश्य एक ही होता है और वह उद्दश्य है समाज को सुव्यवस्थित तरीके से चलाना। इन दोनों सभ्यताओं के बीच का अंतर समझ कर हम यह जान सकते हैं कि मनुष्य सभ्य रहने के लिए किसी भी तौर तरीके का प्रयोग कर सकता है और जिन तौर तरीकों का वह प्रयोग करता है उन्हें सयुंक्त रूप से सभ्यता कहा जाता है। सभ्यता को English में Civilization (सिविलाइज़ेशन) कहा जाता है।

आरोही क्रम का अर्थ | Aarohi Karam Meaning in Hindi

Aarohi Karam Ka Matlab Aur Paribhasha:

आरोही क्रम गणित से जुड़ा हुआ शब्द है तथा इसका प्रयोग विशेषतः छोटी कक्षाओं में किया जाता है। यह शुद्ध हिंदी का शब्द है इसलिए कई बार इसे समझ पाना थोड़ा कठिन हो जाता है तो चलिए आपको समझाते हैं कि आखिर आरोही क्रम होता क्या है।

आरोही क्रम को अंग्रेजी में "असेंडिंग आर्डर" कहते हैं यदि इसका हिंदी में मतलब निकाला जाए तो इसे कहा जाता है बढ़ते क्रम में। आरोही क्रम में लिखी जाने वाली संख्याओं में छोटी संख्याएँ सबसे पहले व बड़ी संख्याएँ सबसे अंत में लिखी जाती हैं। आरोही क्रम से सबंधित कुछ प्रश्न छोटी कक्षाओं में करवाए जाते हैं ताकि विद्यार्थी गणित की संख्याओं को क्रमबद्ध करने में निपुण हो जाए तो चलिए देखते हैं कि कैसे गणित की संख्याएँ आरोही क्रम में लिखी जाती हैं।

साधारण संख्याएँ : 8, 5, 9, 3, 1 ,6

अब देखते हैं इन संख्याओं को आरोही क्रम में कैसे लिखते हैं:

1 < 3 < 5 < 6 < 8 < 9

तो उपरोक्त संख्याएं आरोही क्रम में लिख दी गई हैं आप यदि ध्यान देंगे तो पाएँगे कि 1 जो सबसे छोटी संख्या है वह सबसे पहले है तथा 9 जो सबसे बड़ी संख्या में वह सबसे अंत में है। इसे कहते हैं बढ़ता क्रम या आरोही क्रम। इसे इंग्लिश में Ascending Order (असेंडिंग आर्डर )कहा जाता है। इसके विपरीत अवरोही संख्याएं होती हैं जिन्हें घटते क्रम में लिखा जाता है। जिसमें सबसे बड़ी संख्या को सबसे पहले व सबसे छोटी संख्या को सबसे अंत में लिखा जाता है।

डॉ. मनमोहन सिंह के तीन सुझाव

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री व दिग्गज अर्थशास्त्री डॉ. मनमोहन सिंह ने हाल ही में बीबीसी से ईमेल के जरिए बातचीत की; जिसमें उन्होंने कोरोना के क...