महाजनपद का अर्थ | Mahajanapadas Meaning in Hindi

यह शब्द सर्वाधिक उत्तर वैदिक काल के समय के बाद आने वाले काल खंड को दर्शाने के लिए प्रयोग किया गया है। महाजनपदों का समय काल 600 ईसा पूर्व से 340 ईसा पूर्व रहा है। महाजनपद दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है पहला शब्द है "महा" तथा दूसरा शब्द है "जनपद"। महा शब्द का अर्थ है महान और विशाल तथा "जनपद" वह क्षेत्र होते हैं जो किसी एक राजा के अधीन आते हैं इस प्रकार एक राजा के अधीन आने वाले विशाल क्षेत्रों को महाजनपद कहा जाता है। महाजनपदों को विस्तार से समझने के लिए हमें थोड़ा इतिहास में जाना पड़ेगा।

दरअसल 1500 ईसा पूर्व जब वैदिक काल का आरंभ हुआ था तो उस समय से लेकर 600 ईसा पूर्व तक भारत की सामाजिक दशा में कुछ बदलाव आए जिस कारण छोटे-छोटे कबीले मिलकर बड़े क्षेत्रों में तब्दील होने लगे और वैदिक का का अंत आते-आते वे कबीले महाजनपदों में तब्दील हो चुके थे। इन महाजनपदों के उदय के समय भारत 16 भागों में बटा हुआ था और इन 16 भागों को ही महाजनपद कहा जाता था। जिस प्रकार आज भारत 28 राज्यों से मिलकर बना हुआ है उस समय भारत 16 खंडों से मिलकर बना हुआ था इन्ही खंडों को "महाजनपद" कहा जाता था।

खिज़ां की रुत में शायरी का अर्थ | Khizan Ki Rut Mein Shayari Meaning in Hindi

खिज़ां की रुत में गुलाब लहज़ा... बना के रखना कमाल ये है...
हवा की ज़द में दिया जलाना... जला के रखना कमाल ये है...

पतझड़ (उदासी) के मौसम में भी खिले रहना... कमाल (अद्भुत/ अनोखापन/ हैरानी) की बात है...
चलती हवा में कोई दिया जलाए और फिर उसे जला के रखे... कमाल की बात है...

ज़रा सी लर्ज़िश पे तोड़ देते हैं सब ताल्लुक ज़माने वाले...
सो ऐसे वैसों से भी ताल्लुक... बना के रखना कमाल ये है...

जमाने वाले जरा सी बात (मतभेद) पर रिश्ते तोड़ देते हैं...
लेकिन ऐसे लोगों से भी रिश्ते बना कर रखना... कमाल की बात है...

किसी को देना ये मशवरा के... वो दुख बिछड़ने का भूल जाए...
और ऐसे लम्हे में अपने आँसू... छुपा के रखना कमाल ये है...

किसी को ये सलाह देना कि वो अलग होने का दुख भूल जाए...
लेकिन जब खुद को कोई छोड़ कर जाए तब अपने आँसू छिपा कर दिखाए... कमाल की बात है...

ख्याल अपना, मिज़ाज अपना, पसंद अपनी, कमाल ये है...
जो यार चाहे वो हाल अपना बना के रखना... कमाल ये है...

अपना ख्याल, अपना अंदाज, अपनी पसंद ये ही कमाल है...
और जैसा यार (महबूब/ हमसफ़र) चाहे वैसा ही खुद का हाल बना लेना... कमाल की बात है...

किसी की राह से खुदा की ख़ातिर, उठा के काँटे, हटा के पत्थर...
फिर उस के आगे निगाह अपनी झुका के रखना... कमाल ये है...

किसी की राहों पर से खुदा के लिए, काँटे (पीड़ा) उठा कर, पत्थर (रूकावटें) हटा कर...
उसके आगे नज़रें झुका लेना... कमाल की बात है...

वो जिस को देखे तो दुख का लश्कर भी लड़खड़ाए, शिकस्त खाए...
लबों पे अपने वो मुस्कुराहट, सजा के रखना... कमाल ये है...

वो जिस को देख कर दुखों का पहाड़ भी, लड़खड़ा जाए, हार जाए...
ऐसी हँसी अपने होंठों पर सजा कर रखना... कमाल की बात है...

हज़ार ताकत हो, सौ दलीलें हों, फिर भी लहज़े में आज़जी से...
अदब की लज़्ज़त, दुआ की खुशबू, बसा के रखना कमाल ये है....

हज़ार ताकतें हों, सौ तर्क हों, फिर भी नरम लहजे में...
कायदे (शिष्टाचार) का स्वाद और दुआ की महक, बसा के रखना, कमाल की बात है...

तीर्थंकर का अर्थ | Tirthankar Meaning in Hindi

तीर्थंकर शब्द का प्रयोग जैन धर्म के संस्थापक व उनके बाद क्रमबद्ध आने वाली उन महान आत्माओं के लिए प्रयोग किया गया है जिन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। तीर्थंकर का मतलब होता है वह महान आत्मा जो तीर्थ की स्थापना करें; जैन धर्म के अनुसार तीर्थंकर शब्द उन महान आत्माओं के लिए प्रयोग किया गया है जिन्होंने संसार के जन्म मरण के चक्र से मोक्ष तक के तीर्थ की स्थापना की है अर्थात उन मूल्यों की स्थापना करने वाली महान आत्माएं जो मूल्य इंसान को इस जीवन मरण के चक्कर से मोक्ष की ओर ले जाते हैं इन मूल्यों की स्थापना करने वाली महान आत्माओं को तीर्थंकर कहा गया है।

तीर्थंकर शब्द का प्रयोग केवल और केवल जैन धर्म के चौबीस तीर्थंकरों के लिए ही किया गया है। तीर्थंकर शब्द का English में कोई अर्थ नहीं होता। हिंदी में भी कोई अर्थ नहीं है सिर्फ़ एक परिभाषा है जो ऊपर दे दी गई है तीर्थंकर शब्द को हर एक भाषा में तीर्थंकर ही लिखा जाएगा।

संस्थापक का अर्थ | Sansthapak Meaning in Hindi

संस्थापक शब्द संस्थापन से बना है। संस्थापन वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा किसी पंथ, मत या समुदाय की शुरुआत की जाती है। वह व्यक्ति जो किसी पंथ या समुदाय की शुरुआत करता है उसे संस्थापक कहा जाता है। अर्थात जहाँ से किसी प्रक्रिया की मूल रूप से शुरूआत होती है वह आरंभिक बिंदु होता है और उस आरंभिक बिंदु को संचालित करने वाले व्यक्ति को संस्थापक कहा जाता है। यह आवश्यक नहीं है कि संस्थापक शब्द केवल समुदाय, जाति या पंथ इत्यादि की शुरुआत करने वाले व्यक्तियों के लिए प्रयोग किया जाए; यह शब्द हर उस व्यक्ति के लिए प्रयोग किया जा सकता है जो कोई नई क्रिया आरंभ करता है। चाहे फिर वह क्रिया किसी उद्योग की शुरुआत हो, किसी आंदोलन की शुरुआत हो या किसी विचार की शुरुआत हो। उसे संस्थापक कहा जाता है।

संस्थापक किसी ऐसी क्रिया की शुरुआत करने के लिए जाना जाता है जिसमें बाद में धीरे-धीरे बहुत से लोग जुड़ते चले जाते हैं। उदाहरण के तौर पर आप जैन धर्म के संस्थापक ऋषभदेव का नाम ले सकते हैं जिन्होंने धर्म जैन धर्म की स्थापना की थी, बौद्ध धर्म के संस्थापक महात्मा बुद्ध का नाम ले सकते हैं या फिर आज के समय में किसी भी राजनीतिक पार्टी के संस्थापक का नाम ले सकते हैं या किसी उद्योग की शुरुआत करने वाले व्यक्ति का नाम ले सकते हैं। संस्थापक को English में Founder (फाउंडर) कहा जाता है।

वाइट सुपरमेसी का अर्थ | White Supermacy Meaning in Hindi

वो सिद्धांत या मान्यता जो कहती है कि श्वेत लोग अन्य नस्लों के लोगों की अपेक्षा स्वाभाविक रूप से श्रेष्ठ हैं इसलिए अन्य नस्लों को इसे उच्च दर...