सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

सितंबर 28, 2018 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भाषा का अर्थ | Bhasha Meaning in Hindi

भाषा किसी व्यक्ति द्वारा अपने विचारों का आदान प्रदान करने के लिए उत्पन्न की जाने वाली ध्वनि के विशेष रूप को कहा जाता है। जिसका प्रयोग केवल मनुष्य जाति ही करती है। यद्द्पि पृथ्वी का हर एक जीव विशेष तरह की ध्वनि उत्पन्न करने में सक्षम होता है परंतु भाषा उसी को कहा जाता है जो मनुष्यों के कंठ से उत्पन्न होती है तथा जिसे श्रोता समझ पाने में समर्थ होते हैं। यद्द्पि भाषा में एक जैसी ध्वनियों का उच्चारण किया जाता है परंतु कौन सी ध्वनि का मिलान किस ध्वनि से किया जाएगा इस आधार पर ही अलग-अलग भाषाएं बनती है। एक वस्तु का अनेक भाषाओं में नाम अलग-अलग हो सकता है अर्थात उस उस एक वस्तु को दर्शाने के लिए अलग-अलग भाषाओं में अलग-अलग ध्वनियों का प्रयोग किया जा सकता है परन्तु उनका भाव एक ही होता है। जैसे हिन्दी के शब्द "पत्थर" को अंग्रेजी में "स्टोन" कहा जाता है परन्तु ये दोनों शब्द एक ही वस्तु की ओर इशारा करते हैं। यहां पर ध्यान देने योग्य है कि भाषा को लिखा नहीं जा सकता है भाषा को काल्पनिक लिखित रूप देने के लिए लिपि की आवश्यकता पड़ती है। भाषा के लिए हमने जो चिह्न निर्धारित किए हुए होते