अरेसिबो मैसेज का अर्थ | Arecibo Message Meaning in Hindi

जब से इंसान को पता चला है कि तारों की सँख्या अरबों-खरबों हैं और हमारा सूर्य इन्ही तारों में से एक है तब से ही इंसान ब्रह्मांड में किसी ऐसे तारे की खोज करने का प्रयास कर रहा है जिसकी परिक्रमा करने वाले ग्रहों में से किसी एक पर जीवन हो। इसी प्रयास के चलते वर्ष 1974 में पृथ्वी से आकाश में दिखाई दे रहे तारों की ओर एक संदेश भेजा गया इस संकेत को M13 नामक तारामंडल के समूह की तरफ भेजा गया जो कि हमारी पृथ्वी से दिखने वाला सबसे सघन तारामंडल है। M13 की ओर भेजे गए इसी संदेश को "अरेसिबो संदेश" (Arecibo Message) कहा जाता है। इस संदेश को भेजे जाने का लक्ष्य यह है कि यदि तारा M13 समूह (जो कि पृथ्वी से लगभग 25 हजार पर्कसह वर्ष दूर्य है) के तारों की परिक्रमा करने वाले किसी ग्रह पर जीवन है और वहां पर हमारे जितने या हमसे ज्यादा बुद्धिमान जीव बसते हैं और उन्होंने हमारे द्वारा भेजा गया रेडियो संकेत पढ़ लिया तो हो सकता है वो भी हमें संदेश भेजें और हमें उनके बारे में कुछ जानकारी मिल सके। 210 बीट्स के इस संदेश में हमारी पृथ्वी और मानव सभ्यता के बारे में आधारभूत जानकारियां डाली गई है जैसे पृथ्वी पर कौन कौन सी गैस मौजूद हैं, यहां पर जीवन का मूल क्या है, मनुष्य का DNA स्ट्रक्चर क्या है साथ ही यहां पर रहने वाले इंसानो की लंबाई-चौड़ाई और जनसंख्या के बारे में जानकारी दी गई है। यदि भविष्य में कोई ऐसी सभ्यता जो हम जितनी बुद्धिमान है और वो इस संकेत को पकड़ती है तो हो सकता है और हमें वापिस कोई संदेश भेजें इसी आशा में इस संदेश को भेजा गया है।

द्वैतवाद क्या है / Dvaitavad kya hai / Dvaitavad meaning in Hindi

द्वैतवाद धर्म से संबंधित एक सिद्धांत है, जो कहता है कि मनुष्य और भगवान अलग-अलग वास्तविकताएं हैं, यह सिद्धांत मध्वाचार्य द्वारा दिया गया है, ...