क्रेडिट रेटिंग का अर्थ | Credit Rating Meaning in Hindi

क्रेडिट रेटिंग किसी व्यक्ति, संस्था या देश की कर्ज चुकाने की क्षमता को कहा जाता है। जिस देश की क्रेडिट रेटिंग ज्यादा होती है उसकी कर्ज चुकाने की क्षमता अधिक होती है सरल शब्दों में कहा जाए तो क्रेडिट रेटिंग किसी देश की आर्थिक व्यवस्था की मजबूती का मूल्यांकन होती है जिस व्यक्ति, संस्था या देश की आर्थिक स्थिति मजबूत होती है उसे बिना किसी परेशानी के ऋण मिल जाता है और किसकी आर्थिक स्थिति कितनी मजबूत है इसका पता ऋण देने वाली पार्टी द्वारा क्रेडिट रेटिंग देख कर लगाया जाता है।

सभी देश व संस्थाएं चाहते हैं कि उनकी क्रेडिट रेटिंग ऊँची बनी रहे ताकि वे आवश्यकता पड़ने पर कितना भी बड़ा ऋण बिना किसी परेशानी के ले सकें। क्रेडिट रेटिंग की सूची कुछ विशेष एजेंसियों द्वारा देश या संस्था का इतिहास, उनकी मौजूदा आर्थिक स्थिति व भविष्य की स्थितियों का अंदाजा लगाकर जारी जाती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...