पल्सर का अर्थ | Pulsar Meaning in Hindi

पल्सर अंतरिक्ष में बहुत तेज गति से चलने वाले उन न्यूट्रॉन तारों को कहा जाता है जो किसी विशाल तारे में हुए विस्फोट के बाद बनते हैं। किसी तारे से पल्सर बनने के लिए उस तारे को हमारे सूर्य से 10 से 20 गुना तक बड़ा होना अनिवार्य है। पल्सर इतने सघन होते हैं कि इनका Mass सूर्य से 3 गुना अधिक होने के बावजूद भी ये मात्र 25 किलो मीटर के व्यास वाले गोले में सिमटे हुए होते हैं। इतना अधिक घनत्व व इतना छोटा आकार होने के कारण इनके घूमने की गति बहुत तीव्र हो जाती है। पल्सर मिली सेकंड में अपने अक्ष का एक चक्कर पूरा कर लेता है। जिस कारण एक सेकंड में ये अपने अक्ष के हजारों चक्कर लगाता है। पल्सर की गति का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि यह पृथ्वी से चाँद के मध्य की दूरी मात्र 6 मिनट में तय कर सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...