छिपी बेरोजगारी का अर्थ, मतलब व परिभाषा | Chhipi Berojgari Meaning in Hindi

ऐसी बेरोजगारी जो समक्ष दिखाई नहीं देती को छिपी हुई बेरोजगारी कहते हैं। ऐसी बेरोजगारी मुख्य रूप से कृषि से जुड़े क्षेत्रों में पाई जाती है। जहां पर आवश्यकता से अधिक लोग कार्य में लगे होते हैं। मान लीजिए किसी कार्य के लिए केवल पांच व्यक्तियों की आवश्यकता है लेकिन वहां पर 10 व्यक्ति कार्य कर रहे हैं और उनमें से यदि 5 व्यक्तियों को निकाल भी दिया जाए तो भी उत्पादन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता तो वे जो पांच व्यक्ति अतिरिक्त लगे हुए हैं वे छिपे हुए बेरोजगार कहलाते हैं और इस प्रकार की बेरोजगारी को छिपी हुई बेरोजगारी कहा जाता है। छिपी बेरोजगारी मुख्य रूप से कृषि से सबंधित क्षेत्रों में पाई जाती है। कृषि क्षेत्रों में जहां पर 10 व्यक्तियों की आवश्यकता होती है वहां पर 15 से 20 व्यक्ति कार्य कर रहे होते हैं यदि उन अतिरिक्त व्यक्तियों को निकाल भी दिया जाए तो भी कृषि के उत्पादन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। इस प्रकार के अतिरिक्त व्यक्तियों को छिपे हुए बेरोजगार कहा जाता है और इस प्रकार की बेरोजगारी छिपी बेरोजगारी कहलाती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...