प्रच्छन्न बेरोजगारी का अर्थ, मतलब व परिभाषा | Prachhann Berojgari Meaning in Hindi

जब किसी कार्य में आवश्यकता से अधिक लोग लगे हो तो उनमें से कुछ लोगों को यदि काम से निकाल दिया जाए तो भी उत्पादन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता इस प्रकार के अनावश्यक लोगों को छिपे हुए बेरोजगार या अदृश्य बेरोजगार कहा जाता है और इस प्रकार की बेरोजगारी को छिपी हुई/ अदृश्य या प्रच्छन्न बेरोजगारी के नाम से जाना जाता है। उदाहरण के तौर पर कृषि संबंधित क्षेत्रों को लिया जा सकता है जहां पर आवश्यकता से अधिक लोग कार्य कर रहे होते हैं। कृषि क्षेत्रों में जहां 10 लोगों की आवश्यकता होती है वहां पर 15 लोग कार्य कर रहे होते हैं इन 15 लोगों में से यदि 05 लोगों को निकाल भी दिया जाए तो भी कृषि के उत्पादन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। इस प्रकार वे पांच व्यक्ति छिपे हुए/ अदृश्य या प्रच्छन्न बेरोजगार हैं और उनकी बेरोजगारी को प्रच्छन्न बेरोजगारी कहा जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

डॉ. मनमोहन सिंह के तीन सुझाव

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री व दिग्गज अर्थशास्त्री डॉ. मनमोहन सिंह ने हाल ही में बीबीसी से ईमेल के जरिए बातचीत की; जिसमें उन्होंने कोरोना के क...