स्थाई सदन का अर्थ, मतलब व परिभाषा | Sthayi Sadan Meaning in Hindi

भारत की संसद मुख्य रूप से तीन भागों से मिलकर बनी हुई है पहला भाग है लोकसभा; दूसरा भाग है राज्य सभा और तीसरा भाग है राष्ट्रपति। इन तीनों भागों में से राज्यसभा को स्थाई सदन के नाम से जाना जाता है। राज्यसभा को स्थाई सदन इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह सदन कभी भी भंग नहीं होता। राज्यसभा का कार्यकाल 6 वर्ष का होता है परंतु प्रत्येक 2 वर्ष बाद इसके एक तिहाई सदस्य सेवानिवृत हो जाते हैं जिस कारण यह सदन सदैव व्यवस्था में बना रहता है। यही कारण है कि राज्यसभा को स्थाई सदन के नाम से जाना जाता है। इसके विपरीत लोकसभा को अस्थाई सदन कहा जाता है क्योंकि यह प्रत्येक 5 वर्ष पश्चात या 5 वर्ष से पहले भी भंग में हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

डॉ. मनमोहन सिंह के तीन सुझाव

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री व दिग्गज अर्थशास्त्री डॉ. मनमोहन सिंह ने हाल ही में बीबीसी से ईमेल के जरिए बातचीत की; जिसमें उन्होंने कोरोना के क...