तद्भव शब्द का अर्थ | Tadbhav Shabd Meaning in Hindi

वे सभी शब्द तद्भव शब्द कहलाते हैं जो संस्कृत से हिंदी में आए हैं लेकिन समय के साथ उन शब्दों का रूप बदल गया है। जैसे : संस्कृत का "रात्रि" एक तत्सम शब्द है लेकिन इसी से बना "रात" शब्द एक तद्भव शब्द है क्योंकि इसने हिंदी में आकर अपना रूप बदल लिया है। इस प्रकार वे सभी शब्द जो मूल रूप से संस्कृत से आए हैं लेकिन जिन्होंने समय के साथ अपना रूप बदल लिया है तद्भव शब्द कहलाते हैं।

तद्भव शब्दों को "अशुद्ध शब्द" भी कहा जाता है क्योंकि संस्कृत की दृष्टि से ये शब्द अशुद्ध होते हैं। तद्भव शब्दों के उदाहरण में हम "प्रस्तर" से बने "पत्थर", "अग्नि" से बने "आग", "छत्र" से बने "छत", "लक्ष्मण" से बने "लखन", "वर्षा" से बने "बरखा" इत्यादि शब्दों को देख सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...