नागरिकता संशोधन बिल का अर्थ | Citizenship Amendment Bill Meaning in Hindi

प्रत्येक देश में नागरिकता प्राप्त करने के कुछ नियम होते हैं और प्रत्येक देश वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार इन नियमों में बदलाव कर सकता है और ये बदलाव करने के लिए जिस विधेयक को संसद में लाया जाता है उसे हिंदी में नागरिकता संशोधन विधेयक तथा अंग्रेजी में सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल कहा जाता है।

मौजूदा समय में यह शब्द चर्चा में है क्योंकि भारत सरकार ने 1955 में बनाए गए नागरिकता सबंधित नियमों में बड़े बदलाव किए हैं जिसके चलते नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 लाया गया है। इस विधेयक में सबसे बड़ा बदलाव यह किया गया है कि भारत के तीन पड़ोसी देश पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और बांग्लादेश में रह रहे हिन्दू, सिख, जैन, ईसाई, बौद्ध और पारसी धर्म के लोग (जो कि इन देशों में अल्पसंख्यक हैं) भारत में केवल 6 वर्ष निवास कर भारत की नागरिकता प्राप्त कर सकते हैं इस संशोधन से पहले निवास समय की सीमा 11 वर्ष की थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...