सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोविड 19 | COVID 19 Meaning in Hindi

शब्द चर्चा में क्यों : चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोनावायरस धीरे-धीरे पूरे विश्व में फैलता जा रहा है और भारत में भी इसके कुछ मामले सामने आए हैं। कर्नाटक में 76 वर्षीय व्यक्ति के कोरोना से पीड़ित होने के बाद हुई मृत्यु के चलते देश में एक पैनिक की स्थिति बन गई है। वहीं दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं इतने व्यापक स्तर पर फैलने के चलते सभी देश सयुंक्त रूप से इसका मुकाबला करने के लिए तैयार हो रहे हैं। इसी श्रृंखला में इस बीमारी को अंतराष्ट्रीय नाम दिया गया है COVID-19

COVID-19 का अर्थ : कोविड 19 एक संक्षिप्त शब्द है इसमें CO का अर्थ है CORONA; VI का अर्थ है VIRUS और D का अर्थ है DISEASE और क्योंकि इसकी पहचान वर्ष 2019 में हुई है इसलिए इसके साथ 19 लगाया गया है। इस प्रकार COVID-19 का पूरा नाम बनता है CORONA VIRUS DISEASE 2019 (कोरोना वायरस डिजीज 2019) सभी अंतरराष्ट्रीय संस्थाएँ जैसे कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) भी इस बीमारी को COVID-19 के नाम से ही मेंशन करता है।

शुरुआत व लक्षण : COVID-19 फैलने का कारण Severe Acute Respiratory Syndrome Coronavirus 2 है जिसे संक्षिप्त रूप में SARS-CoV-2 लिखा जाता है। इस वायरस का सबसे पहला मामला चीन के वुहान शहर में मिला था जिस कारण इसे वुहान कोरोनावायरस के नाम से भी जाना जाता है। इस बीमारी के सामान्य लक्षणों में तेज बुखार, सूखी खांसी व सांस लेने में कठिनाई शामिल हैं। इसके अलावा बलगम, मांसपेशियों में दर्द व गले में खराश भी इसके अन्य लक्षण हो सकते हैं। कोविड-19 से ग्रसित रोगियों की मृत्यु दर 01 से 05 प्रतिशत के मध्य है। इस वायरस को माइक्रोस्कोप से देखने पर इसके चारों ओर सूर्य के कोरोना की तरह शाखाएँ निकली हुई दिखाई देती है जिस कारण इस वायरस का नाम कोरोना वायरस रखा गया है।

फैलने के कारण, बचाव व निवारण : यह वायरस खाँसने, छींकने व मुँह के बहुत नजदीक आकर साँस लेने से फैलता है आम तौर पर इसके लक्षण 02 से 14 दिन में दिखाई देते हैं। इस बीमारी की फिलहाल कोई दवा या टीका उपलब्ध नही है और संभवतः वर्ष 2021 से पहले इसके टीके व दवा का मिलना मुश्किल है इसलिए इस वायरस से बचाव ही सही कदम है। हाथों को साबुन या सैनिटाइजर से धोना, लोगों से दूरी बनाए रखना व मुँह पर मास्क पहनना इत्यादि इस वायरस से बचाव में सहायक हैं। हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने COVID-19 को वैश्विक महामारी (Pandemic) घोषित किया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आमी तोमाके भालोबाशी का अर्थ - Ami Tomake Bhalobashi Meaning in Hindi

* आमी तोमाके भालोबाशी बंगाली भाषा का शब्द है। * इसका हिंदी में अर्थ होता है "मैं तुमसे प्यार करता/ करती हूँ। * इस शब्द का प्रयोग हिंदी फिल्मों और गानों में बंगाली टच देने के लिए किया जाता है। * आमी तोमाके भालोबाशी में "तोमाके" का अर्थ होता है "तुमको" इसे "तोमे" के साथ भी बोला जा सकता है अर्थात "आमी तोमे भालोबाशी" का अर्थ भी "मैं तुमसे प्यार करता हूँ" ही होता है। * अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति जैसे माता-पिता को बंगाली में यह शब्द कहते हुए "तोमाके" शब्द को "अपनके" बोला जाता है जैसे : आमी अपनके भालोबासी" * अंग्रेजी में इसका अर्थ आई लव यू होता है। * अगर बोलना हो कि "मैं तुमसे (बहुत) प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "आमी तोमाके खूब भालोबाशी" * वहीं अगर बोलना हो " तुम जानती हो मैं तुमसे प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "तुमी जानो; आमी तोमाके भालोबाशी"

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान दोहे का अर्थ Karat Karat Abhyas Ke Jadmati Hot Sujan Doha Meaning in Hindi

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान मध्यकालीन युग में कवि वृंद द्वारा रचित एक दोहा है यह पूर्ण दोहा इस प्रकार है "करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान; रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान" इस दोहे का अर्थ है कि निरंतर अभ्यास करने से कोई भी अकुशल व्यक्ति कुशल बन सकता है यानी कि कोई भी व्यक्ति अपने अंदर किसी भी प्रकार की कुशलता का निर्माण कर सकता है यदि वह लगातार परिश्रम करे। इसके लिए कवि ने कुए की उस रस्सी का उदाहरण दिया है जिस पर बाल्टी को बांध कर कुए से पानी निकाला जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण वह रस्सी कुए के किनारे पर बने पत्थर पर घिसती है तथा बार-बार घिसने के कारण वह कोमल रस्सी उस पत्थर पर निशान डाल देती है क्योंकि पानी भरने की प्रक्रिया बार बार दोहराई जाती है इसलिए वह रस्सी पत्थर निशान डालने में सफल हो जाती है। यही इस दोहे का मूल है इसमें यही कहा गया है कि बार-बार किसी कार्य को करने से या कोई अभ्यास लगातार करने से अयोग्य से अयोग्य व मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी कुशल हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को कभी भी अभ्यास करना नहीं छोड़ना चाहिए। इस दोहे के लिए अंग्रेजी में एक वाक्य प्रय

जिहाल-ए-मिस्कीं मकुन बरंजिश का अर्थ | Zihale-E-Miskin Mukun Ba Ranjish Meaning in Hindi

"जिहाल-ए -मिस्कीन मकुन बरंजिश" पंक्ति हिंदी फिल्म गुलामी में गए गए गीत के चलते प्रचलित हुई है। यह गीत प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो द्वारा रचित फ़ारसी व बृजभाषा के मिलन से बनी कविता से प्रेरित है। यह कविता मूल रूप में इस प्रकार है। ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां... कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां... इस मूल कविता का अर्थ है : आँखे फेरके और बातें बनाके मेरी बेबसी को नजरअंदाज (तगाफ़ुल) मत कर... हिज्र (जुदाई) की ताब (तपन) से जान नदारम (निकल रही) है तुम मुझे अपने सीने से क्यों नही लगाते... इस कविता को गाने की शक्ल में कुछ यूँ लिखा गया है : जिहाल-ए -मिस्कीं मकुन बरंजिश , बेहाल-ए -हिजरा बेचारा दिल है... सुनाई देती है जिसकी धड़कन , तुम्हारा दिल या हमारा दिल है... इस गाने की पहली दो पंक्तियों का अर्थ है : मेरे दिल का थोड़ा ध्यान करो इससे रंजिश (नाराजगी) न रखो इस बेचारे ने अभी बिछड़ने का दुख सहा है...