हीन ग्रह का अर्थ | Minor Planet Meaning in Hindi

ऐसी खगोलीय पिंड को सूर्य की परिक्रमा तो करती है लेकिन ना तो ग्रह या बौने ग्रह जितनी बड़ी होती है धूमकेतु जितनी छोटी होती है; इसलिए इसे हीन ग्रह (Minor Planet) कहा जाता है।

अभी तक पाँच लाख हीन ग्रहों को खोजा जा चुका है।

"हीन ग्रह केंद्र" नामक संगठन हीन ग्रहों के नाम और कक्षाओं का रिकॉर्ड रखता है।

सबसे अधिक हीन ग्रह सौर मंडल के क्षुद्रग्रह घेरे में पाए जाते हैं।

क्षुद्रग्रह घेरा बृहस्पति और मंगल की कक्षाओं के बीच स्थित है। असंख्य छोटे आकार के खगोलीय पिंड मौजूद हैं।

सेरेस (Ceres) सबसे पहला हीन ग्रह था जिसे वर्ष 1801 में खोजा गया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्ण शंकर का अर्थ | Varna Shankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...