सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तालिबान का अर्थ | Taliban Meaning in Hindi

तालिबान अफगानिस्तान में एक सुन्नी इस्लामी कट्टरपंथी राजनीतिक आंदोलन और सैन्य संगठन हैं।

तालिबान का शाब्दिक अर्थ होता है "ज्ञानार्थी" यानी छात्र; जो सीखने की इच्छा रखता हो।

तालिबान का उदय 90 के दशक में पाकिस्तान के उत्तरी इलाकों में उस समय हुआ जब सोवियत यूनियन की सेना अफगानिस्तान से वापिस जा रही थी। क्योंकि सोवियत के जाने के बाद अफगानिस्तान के स्थानीय गुटों में शक्ति को लेकर टकराव होने लगा था।

इन्हीं गुटों में से एक पश्तूनों के नेतृत्व में उभरे तालिबान का अफगानिस्तान में स्वागत हुआ; और 1994 में इसका व्यापक दबदबा दिखाई देने लगा।

शुरू में तालिबान को लोगों का साथ मिला क्योंकि इसने भ्र्ष्टाचार पर रोक लगाते हुए लोगों को सुरक्षा मुहैय्या करवाई और अपने कब्जे वाले इलाकों में व्यापार करने योग्य माहौल का निर्माण किया।

1998 तक तालिबान का कब्जा व प्रभाव 90% अफगानिस्तान पर कायम हो चुका था।

प्रभाव स्थापित होने के बाद तालिबान ने कठोरता बरतनी शुरू कर दी; उसने इस्लामिक कानून के तहत सजा लागू करवाई व खुद भी सजाएं लागू करने लगा।

इसके तहत हत्या के दोषियों को सार्वजनिक फाँसी और चोरी के दोषियों के हाथ-पैर काटने जैसी अमानवीय सजाएं दी जाने लगी।

पुरुषों को दाढ़ी रखने और स्त्रियों को बुरका पहनने जैसे सख्त नियम लागू कर दिए गए और 10 वर्ष से ज्यादा उम्र की लड़कियों के स्कूल जाने पर रोक लगा दी गई। गीत-संगीत और टीवी सिनेमा जैसे मनोरंजन के साधनों को भी प्रतिबंध लगा दिया गया।

शुरुआती तौर पर तालिबान केवल अफगानिस्तान में सिमटा हुआ था लेकिन न्यूयॉर्क में 2001 में हुए हमले में तालिबान का नाम आने के बाद तालिबान पर दुनिया की नजर पड़ी। अमेरिका ने आरोप लगाया कि तालिबान ने ओसामा बिन लादेन और अल कायदा को पनाह दी है जिन्हें न्यूयॉर्क हमलों को दोषी माना जा रहा था।

फलस्वरूप वर्ष 2001 में अमेरिका के नेतृत्व वाले गठबंधन ने अफगानिस्तान पर हमला कर दिया; और तालिबान को अफगानिस्तान की सत्ता से बेदखल कर दिया गया।

लेकिन तालिबान का पूर्ण खात्मा करने में अमेरिका असफल रहा; और तालिबान समय-समय पर सिर उठाता रहा।

आज भी तालिबान का अफगानिस्तान में दबदबा कायम है 2016 से तालिबान का लीडर हिबतुल्लाह अखुंदजादा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आमी तोमाके भालोबाशी का अर्थ - Ami Tomake Bhalobashi Meaning in Hindi

* आमी तोमाके भालोबाशी बंगाली भाषा का शब्द है। * इसका हिंदी में अर्थ होता है "मैं तुमसे प्यार करता/ करती हूँ। * इस शब्द का प्रयोग हिंदी फिल्मों और गानों में बंगाली टच देने के लिए किया जाता है। * आमी तोमाके भालोबाशी में "तोमाके" का अर्थ होता है "तुमको" इसे "तोमे" के साथ भी बोला जा सकता है अर्थात "आमी तोमे भालोबाशी" का अर्थ भी "मैं तुमसे प्यार करता हूँ" ही होता है। * अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति जैसे माता-पिता को बंगाली में यह शब्द कहते हुए "तोमाके" शब्द को "अपनके" बोला जाता है जैसे : आमी अपनके भालोबासी" * अंग्रेजी में इसका अर्थ आई लव यू होता है। * अगर बोलना हो कि "मैं तुमसे (बहुत) प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "आमी तोमाके खूब भालोबाशी" * वहीं अगर बोलना हो " तुम जानती हो मैं तुमसे प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "तुमी जानो; आमी तोमाके भालोबाशी"

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान दोहे का अर्थ Karat Karat Abhyas Ke Jadmati Hot Sujan Doha Meaning in Hindi

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान मध्यकालीन युग में कवि वृंद द्वारा रचित एक दोहा है यह पूर्ण दोहा इस प्रकार है "करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान; रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान" इस दोहे का अर्थ है कि निरंतर अभ्यास करने से कोई भी अकुशल व्यक्ति कुशल बन सकता है यानी कि कोई भी व्यक्ति अपने अंदर किसी भी प्रकार की कुशलता का निर्माण कर सकता है यदि वह लगातार परिश्रम करे। इसके लिए कवि ने कुए की उस रस्सी का उदाहरण दिया है जिस पर बाल्टी को बांध कर कुए से पानी निकाला जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण वह रस्सी कुए के किनारे पर बने पत्थर पर घिसती है तथा बार-बार घिसने के कारण वह कोमल रस्सी उस पत्थर पर निशान डाल देती है क्योंकि पानी भरने की प्रक्रिया बार बार दोहराई जाती है इसलिए वह रस्सी पत्थर निशान डालने में सफल हो जाती है। यही इस दोहे का मूल है इसमें यही कहा गया है कि बार-बार किसी कार्य को करने से या कोई अभ्यास लगातार करने से अयोग्य से अयोग्य व मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी कुशल हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को कभी भी अभ्यास करना नहीं छोड़ना चाहिए। इस दोहे के लिए अंग्रेजी में एक वाक्य प्रय

जिहाल-ए-मिस्कीं मकुन बरंजिश का अर्थ | Zihale-E-Miskin Mukun Ba Ranjish Meaning in Hindi

"जिहाल-ए -मिस्कीन मकुन बरंजिश" पंक्ति हिंदी फिल्म गुलामी में गए गए गीत के चलते प्रचलित हुई है। यह गीत प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो द्वारा रचित फ़ारसी व बृजभाषा के मिलन से बनी कविता से प्रेरित है। यह कविता मूल रूप में इस प्रकार है। ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां... कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां... इस मूल कविता का अर्थ है : आँखे फेरके और बातें बनाके मेरी बेबसी को नजरअंदाज (तगाफ़ुल) मत कर... हिज्र (जुदाई) की ताब (तपन) से जान नदारम (निकल रही) है तुम मुझे अपने सीने से क्यों नही लगाते... इस कविता को गाने की शक्ल में कुछ यूँ लिखा गया है : जिहाल-ए -मिस्कीं मकुन बरंजिश , बेहाल-ए -हिजरा बेचारा दिल है... सुनाई देती है जिसकी धड़कन , तुम्हारा दिल या हमारा दिल है... इस गाने की पहली दो पंक्तियों का अर्थ है : मेरे दिल का थोड़ा ध्यान करो इससे रंजिश (नाराजगी) न रखो इस बेचारे ने अभी बिछड़ने का दुख सहा है...