सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डीआरडीओ का अर्थ | DRDO Meaning in Hindi

डीआरडीओ की फुल फॉर्म है Defence Research and Development Organisation इसे हिंदी में "रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन" कहा जाता है; यह भारत में विश्व स्तर के विज्ञान और प्रौद्योगिकी के आधार को स्थापित करने के लिए काम कर रहा है; यह हमारी रक्षा सेवाओं को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धी प्रणालियों से लैस करके निर्णायक बढ़त प्रदान करता है; डीआरडीओ की स्थापना वर्ष 1958 में कुछ तकनीकी और डिफेंस क्षेत्र के संयुक्त संगठनों को मिलाकर की गई थी; यह रक्षा मंत्रालय के अधीन काम करता है; DRDO का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है; मौजूदा समय में 50 से अधिक प्रयोगशालाओं के नेटवर्क के साथ DRDO रक्षा तकनीकों को विकसित करने में लगा हुआ है; यह मुख्य रूप से एयरोनॉटिक्स, आर्मामेंट्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, कॉम्बैट व्हीकल, मिसाइल, राडार, एडवांस कंप्यूटिंग और सिमुलेशन, विशेष सामग्री, नौसेना प्रणाली के क्षेत्र में काम करता है; मौजूदा समय में DRDO में 5000 से अधिक वैज्ञानिकों और लगभग 25,000 तकनीकी स्टाफ और सहायक कर्मी कार्यरत हैं; DRDO के अंतर्गत ही पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा Integrated Guided Missile Development Programme (IGMDP) नामक प्रोग्राम की शुरुआत की गई थी; इस प्रोग्राम का उद्देश्य भारत को मिसाइल विकसित करने के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना था; इस प्रोग्राम के अंतर्गत ही पृथ्वी, अग्नि, त्रिशूल, आकाश और नाग जैसी मिसाइल विकसित की गई हैं; इसके अलावा DRDO ने प्रहार, शौर्य, निर्भय, अस्त्र, धनुष, सागरिका, ब्रह्मोस जैसी मिसाइलें भी विकसित की हैं; हालांकि DRDO की तुलना ISRO से की जाती है जिसमें DRDO पिछड़ा हुआ नजर आता है जिस कारण केंद्र सरकार की ओर से ISRO को आर्थीक सहायता अधिक दी जाती है; DRDO का सालाना बजट सामान्यतः 15000 करोड़ के आसपास रहता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आमी तोमाके भालोबाशी का अर्थ - Ami Tomake Bhalobashi Meaning in Hindi

* आमी तोमाके भालोबाशी बंगाली भाषा का शब्द है। * इसका हिंदी में अर्थ होता है "मैं तुमसे प्यार करता/ करती हूँ। * इस शब्द का प्रयोग हिंदी फिल्मों और गानों में बंगाली टच देने के लिए किया जाता है। * आमी तोमाके भालोबाशी में "तोमाके" का अर्थ होता है "तुमको" इसे "तोमे" के साथ भी बोला जा सकता है अर्थात "आमी तोमे भालोबाशी" का अर्थ भी "मैं तुमसे प्यार करता हूँ" ही होता है। * अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति जैसे माता-पिता को बंगाली में यह शब्द कहते हुए "तोमाके" शब्द को "अपनके" बोला जाता है जैसे : आमी अपनके भालोबासी" * अंग्रेजी में इसका अर्थ आई लव यू होता है। * अगर बोलना हो कि "मैं तुमसे (बहुत) प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "आमी तोमाके खूब भालोबाशी" * वहीं अगर बोलना हो " तुम जानती हो मैं तुमसे प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "तुमी जानो; आमी तोमाके भालोबाशी"

जिहाल-ए-मिस्कीं मकुन बरंजिश का अर्थ | Zihale-E-Miskin Mukun Ba Ranjish Meaning in Hindi

"जिहाल-ए -मिस्कीन मकुन बरंजिश" पंक्ति हिंदी फिल्म गुलामी में गए गए गीत के चलते प्रचलित हुई है। यह गीत प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो द्वारा रचित फ़ारसी व बृजभाषा के मिलन से बनी कविता से प्रेरित है। यह कविता मूल रूप में इस प्रकार है। ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां... कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां... इस मूल कविता का अर्थ है : आँखे फेरके और बातें बनाके मेरी बेबसी को नजरअंदाज (तगाफ़ुल) मत कर... हिज्र (जुदाई) की ताब (तपन) से जान नदारम (निकल रही) है तुम मुझे अपने सीने से क्यों नही लगाते... इस कविता को गाने की शक्ल में कुछ यूँ लिखा गया है : जिहाल-ए -मिस्कीं मकुन बरंजिश , बेहाल-ए -हिजरा बेचारा दिल है... सुनाई देती है जिसकी धड़कन , तुम्हारा दिल या हमारा दिल है... इस गाने की पहली दो पंक्तियों का अर्थ है : मेरे दिल का थोड़ा ध्यान करो इससे रंजिश (नाराजगी) न रखो इस बेचारे ने अभी बिछड़ने का दुख सहा है...

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान दोहे का अर्थ Karat Karat Abhyas Ke Jadmati Hot Sujan Doha Meaning in Hindi

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान मध्यकालीन युग में कवि वृंद द्वारा रचित एक दोहा है यह पूर्ण दोहा इस प्रकार है "करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान; रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान" इस दोहे का अर्थ है कि निरंतर अभ्यास करने से कोई भी अकुशल व्यक्ति कुशल बन सकता है यानी कि कोई भी व्यक्ति अपने अंदर किसी भी प्रकार की कुशलता का निर्माण कर सकता है यदि वह लगातार परिश्रम करे। इसके लिए कवि ने कुए की उस रस्सी का उदाहरण दिया है जिस पर बाल्टी को बांध कर कुए से पानी निकाला जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण वह रस्सी कुए के किनारे पर बने पत्थर पर घिसती है तथा बार-बार घिसने के कारण वह कोमल रस्सी उस पत्थर पर निशान डाल देती है क्योंकि पानी भरने की प्रक्रिया बार बार दोहराई जाती है इसलिए वह रस्सी पत्थर निशान डालने में सफल हो जाती है। यही इस दोहे का मूल है इसमें यही कहा गया है कि बार-बार किसी कार्य को करने से या कोई अभ्यास लगातार करने से अयोग्य से अयोग्य व मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी कुशल हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को कभी भी अभ्यास करना नहीं छोड़ना चाहिए। इस दोहे के लिए अंग्रेजी में एक वाक्य प्रय