विशेष राज्य का दर्जा का अर्थ | Vishesh Rajya Ka Darja Meaning in Hindi

देश के वे राज्य जो अन्य राज्यों की तुलना में संसाधनों के मामले में पिछड़े हुए हैं ऐसे राज्यों को केंद्र सरकार द्वारा विशेष राज्य का दर्जा दिया जाता है; यह दर्जा मुख्य रूप से कम जनसंख्या घनत्व, बड़ा आदिवासी बहुल क्षेत्र, पहाड़ी और दुर्गम क्षेत्र, अंतरराष्ट्रीय सीमा, कम प्रति व्यक्ति आय, उद्योग धंधे लगाने में असमर्थता, सामाजिक-आर्थिक विषमताएं या बुनियादी ढाँचे की कमी के आधार पर दिया जाता है; कुल मिलाकर जिन राज्यों के पास खुद के संसाधन सीमित होते हैं उन्हें यह दर्जा मिलता है; मौजूदा समय में अरुणाचल प्रदेश, असम, मणिपुर, मेघालय, मिज़ोरम, नागालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड को विशेष राज्य का दर्जा मिला हुआ है; इन विशेष राज्यों को केंद्रीय सहयोग के तहत अधिक अनुदान मिलता है विशेष राज्यों को 90% अनुदान व 10% ब्याज मुक्त ऋण मिलता है जबकि अन्य राज्यों को 30% अनुदान और 70% कर्ज मिलता है; इसके अलावा कर में छूट व अन्य विशेष पैकेज भी दिए जाते हैं जिससे इन राज्यों में निजी निवेश को बढ़ावा मिलता है; संविधान में विशेष राज्य का प्रावधान नही है लेकिन केंद्र-राज्य के आर्थिक संबंधों का जिक्र अवश्य है; 14 वें वित्त आयोग के बाद उत्तर-पूर्वी और पहाड़ी राज्यों को छोड़ यह दर्जा किसी अन्य राज्य को न दिए जाने का फैसला लिया गया है; बिहार सहित राजस्थान, आंध्र प्रदेश, गोवा और ओडिशा इस दर्जे की माँग कर रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

वर्णसंकर का अर्थ | Varnasankar meaning in Hindi

वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत चार वर्ण बताए गए हैं ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र। जब दो अलग अलग वर्ण के महिला व पुरुष आपस में विवाह करते हैं...