सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जून 11, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मौलिक अधिकार का अर्थ | Maulik Adhikar Meaning in Hindi

भारतीय संविधान के भाग 3 में (अनुच्छेद 12 से 35 तक) मौलिक अधिकारों की व्याख्या की गई है मौजूदा समय में भारतीय नागरिकों को कुल छः मौलिक अधिकार प्राप्त हैं और भारत सरकार कोई भी ऐसा कानून नही बना सकती जो इन मौलिक अधिकारों का हनन करता हो। संविधान के भाग 3 के अनुच्छेद 14 से 18 में समानता के अधिकार की व्याख्या है वहीं अनुच्छेद 19 से 22 में स्वतंत्रता के अधिकार, अनुच्छेद 23 से 24 में शोषण के विरुद्ध अधिकार, अनुच्छेद 25 से 28 में धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार, अनुच्छेद 29 से 30 में संस्कृति और शिक्षा से सम्बद्ध अधिकार व अनुच्छेद 32 से 35 में सांवैधानिक उपचारों के अधिकार शामिल हैं। आइए इन छः मौलिक अधिकारों को एक-एक कर विस्तार से जानते हैं। समानता का अधिकार (अनुच्छेद 14 से 18 में वर्णित) : इस अधिकार को अंग्रेजी में राइट टू इक्वलिटी कहा जाता है इसके अनुसार राज्य अर्थात सरकार जाति, धर्म, लिंग, वर्ण व जन्मस्थान इत्यादि के आधार पर किसी भी नागरिक के साथ भेदभाव नहीं कर सकती। यद्द्पि पिछड़े वर्गों के लिए विशेष व्यवस्था करने हेतु वह स्वतंत्र है। स्वतंत्रता का अधिकार (अनुच्छेद 19 से 22 में वर्णित) : इस अध