समृद्ध का अर्थ | Samridh Meaning in Hindi

आज इस आर्टिकल में हम समृद्ध शब्द के बारे में जानेंगे। इसका जिक्र NCERT की कक्षा छठी की पुस्तक "सामाजिक एंव राजनीतिक जीवन" के अध्याय 01 में आता है।

इस अध्याय में भारत को विविधताओं का देश बताया गया है और कहा गया है कि विविधताओं के कारण ही भारत एक समृद्ध देश है।

समृद्ध का शब्दिक अर्थ होता है अत्यधिक संपन्न होना। अर्थात किसी विशेषता की बहुलता होना। उदाहरण के तौर पर भारत की संस्कृति में बहुत अधिक भिन्नताएं हैं इसलिए भारत विविधता में समृद्ध है।

इस शब्द का प्रयोग हम अन्य वाक्यों में भी कर सकते हैं जैसे : यदि कोई व्यक्ति अत्यधिक धनवान है तो हम कह सकते हैं कि "वह व्यक्ति आर्थिक रूप से समृद्ध है"

इस शब्द के बारे में आपको यह भी पता होना चाहिए कि समृद्ध शब्द का प्रयोग हिन्दू नाम के रूप में भी किया जाने लगा है। भारतीय सभ्यता में यह एक पुरुष नाम है वहीं समृद्ध शब्द से बना समृद्धि नाम स्त्रियों के लिए है।

परिपाटी का अर्थ | Paripati Meaning in Hindi

आज इस आर्टिकल में हम परिपाटी शब्द के बारे में जानेंगे। इसका जिक्र NCERT की कक्षा छठी की पुस्तक "सामाजिक एंव राजनीतिक जीवन" के अध्याय 01 में आता है।

अध्याय 01 जिसका शीर्षक है "विविधता की समझ" में पाठक को स्त्री मानते हुए स्त्री विशेषणों का प्रयोग किया गया है तथा लेखन भाषा की उस परिपाटी को बदला गया है जो यह मानती है कि पाठक को पुरुष मानकर पुस्तक लिखी जानी चाहिए और स्त्रीलिंग को इसी में निहित माना जाना चाहिए।

यहाँ पर परिपाटी शब्द का इस्तेमाल किया गया है। परिपाटी का अर्थ होता है प्रचलित शैली या परंपरा। अर्थात जिस शैली का निरंतर प्रयोग किया गया हो और जो समय के साथ प्रचलित हो गई हो; को परिपाटी कहा जाता है।

शैली किसी साहित्य को लिखने के उस विशेष तरीके को कहा जाता है जिसका प्रयोग कर शब्दों व वाक्यों की रचना की गई होती है। जैसे व्याख्यात्मक शैली या विचारात्मक शैली इत्यादि।

इस अध्याय में एक नई शैली का प्रयोग किया गया है जो पाठक को सीधे स्त्री मानते हुए अपनी बात कहती है। अमूमन यदि आप किसी अन्य पुस्तक को पढ़ोगे तो अधिक्तर समय पाठक को पुरुष मानते हुए अपनी बात कही गई होती है।

इस नई परिपाटी (शैली) को शामिल किए जाने का उद्देश्य महिला सशक्तिकरण को समाज में बढ़ावा देना और विद्यार्थियों को इस बदलाव का एहसास दिलवाना है।

द्वैतवाद क्या है / Dvaitavad kya hai / Dvaitavad meaning in Hindi

द्वैतवाद धर्म से संबंधित एक सिद्धांत है, जो कहता है कि मनुष्य और भगवान अलग-अलग वास्तविकताएं हैं, यह सिद्धांत मध्वाचार्य द्वारा दिया गया है, ...