सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अगस्त 3, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का अर्थ | One Nation One Ration Card Scheme Meaning in Hindi

हाल ही में जम्मू कश्मीर, नागालैंड, मणिपुर तथा उत्तराखंड के वन नेशन वन राशन कार्ड योजना में शामिल होने के बाद इस योजना में शामिल होने वाले राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों की संख्या 24 हो गई है और जल्द ही यह योजना बचे हुए राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में भी लागू कर दी जाएगी। तो ऐसे में यह जानना आवश्यक हो जाता है कि वन नेशन वन राशन कार्ड योजना आखिर है क्या और इस योजना को लागू करने के पीछे सरकार के क्या उद्देश्य हैं? तो चलिए इस योजना को समझने की कोशिश करते हैं। दरअसल वन नेशन वन राशन कार्ड वह योजना है जिसके जरिए केंद्र सरकार सभी राज्यों में फैले PDS (पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम; सार्वजनिक वितरण प्रणाली) को एक ही छत के नीचे लाने हेतु कार्यरत है। ताकि किसी भी राज्य का नागरिक दूसरे राज्य से अपने राशन कार्ड का प्रयोग कर सरकारी सब्सिडी वाले सस्ते राशन को प्राप्त कर सके जिसमें मुख्यतः अनाज व चावल शामिल हैं। PDS (पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम) से अभिप्रायः राशन की उन सस्ती दुकानों से है जिनके माध्यम से सरकार गरीबों तक कम दाम में राशन पहुँचाती है; गाँव देहात में इन दुकानों को कोटा न

टाइम कैप्सूल का अर्थ | Time Capsule Meaning in Hindi

हाल ही में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा राम मंदिर की नींव रखने से पूर्व 2000 फीट नीचे टाइम कैप्सूल रखे जाने का निर्णय लिया गया है। इस टाइम कैप्सूल में राम जन्मभूमि का संपूर्ण ज्ञात इतिहास दर्ज होगा। तो प्रश्न यहां पर यह उठता है कि टाइम कैप्सूल आखिर होता क्या है, इसे जमीन में क्यों दबाया जाता है और क्या यह हमारे देश में टाइम कैप्सूल दबाए जाने का पहला अवसर है; आइए इन सब प्रश्नों का उत्तर पाने की कोशिश करते हैं। दरअसल टाइम कैप्सूल एक कंटेनर की तरह होता है जिसे खास तरह की सामग्री से बनाया जाता है यह जमीन के नीचे सैंकड़ों या हजारों वर्षों तक दबा होने के बावजूद भी गलता-सड़ता नही है। इसलिए इसका प्रयोग हम ऐसे दस्तावेज या सामान को हजारों वर्षों तक सुरक्षित रखने के लिए करते हैं जिसके माध्यम से भविष्य में आने वाली हमारी पीढ़ियों को हमारे मौजूदा समय के बारे में जानकारी दी जा सके। उदाहरण के तौर पर आज हम 2020 में जी रहे हैं यदि हम कोई जानकारी 3020 में भेजना चाहें तो हम टाइम कैप्सूल की मदद से ऐसा कर सकते हैं; यदि हम आज कोई जानकारी लिखकर टाइम कैप्सूल में डाल कर दबा देते हैं तो 3

बीएस 4 का अर्थ | BS4 Meaning in Hindi

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक BS4 वाहनों की बिक्री पर रोक लगा दी है। साथ ही कोरोना लॉकडाउन के समय मार्च महीने में बड़ी संख्या में BS4 वाहनों की बिक्री पर नाराजगी जाहिर की है। साथ ही कहा है कि 31 मार्च 2020 के बाद बिके BS4 वाहनों का रजिस्ट्रेशन नही किया जाएगा। लेकिन ये BS4 वाहन आखिर होते क्या हैं आइए समझने की कोशिश करते हैं। दरअसल BS 4 में प्रयुक्त संक्षिप्त शब्द BS की फुल फॉर्म है भारत स्टेज (Bharat Stage) BS एक मानदंड है जो वाहनों के धुएं के माध्यम से निकलने वाले प्रदूषकों के लिए एक सीमा का निर्धारण करता है। ताकि वातावरण में फैले प्रदूषण को कम किया जा सके। एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण प्रत्येक वर्ष पांच वर्ष से कम आयु के एक लाख बच्चों की मृत्यु का कारण बन रहा है वहीं देश में होने वाली मौतों के 12.5% ​​के लिए जिम्मेदार है। इसीलिए सरकार प्रदूषण को कम करने के लिए बहुत से कदम उठा रही है जिनमें से गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषण की सीमा को तय करना भी एक महत्वपूर्ण कदम है। BS के बाद लगी संख्या इसकी स्टेज (चरण) को प्रदर्शित करती है स्टेज जितनी

वोकेशनल एजुकेशन का अर्थ | Vocational Education Meaning in Hindi

परिभाषा : व्यावसायिक शिक्षा के जरिए विद्यार्थियों को उन नौकरियों के लिए तैयार किया जाता है जो हस्तचालित या प्रयोगात्मक गतिविधियों पर आधारित हैं और जो परंपरागत रूप से गैर एकेडमिक और किसी विशेष व्यापार, व्यवसाय या पेशे से पूरी तरह संबंधित है इसमें सीखने वाला सीधे ही तकनीकी या प्रौद्योगिकी के एक विशेष समूह में विशेषज्ञता हासिल करता है। अन्य नाम : व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण, पेशेवर या तकनीकी शिक्षा कोर्स : ऑटोमोबाइल, मैकेनिकल, फैशन, टेलीकम्युनिकेशन, टूरिज्म, होटल मैनेजमेंट, वेब या ग्राफिक डिज़ाइन, एक्टिंग, फूड इत्यादि। लाभ : 1. नौकरी मिलने के ज्यादा अवसर 2. उच्च वेतन 3. कार्य संतुष्टि 4. आजीवन कमाई का साधन 5. उद्योगों के लिए कुशल कर्मी 6. शिक्षा और रोजगार के बीच कम अंतर 7. व्यक्तिगत उत्पादन क्षमता का बढ़ना विशेषताएं : 1. प्रैक्टिकल आधारित पाठ्यक्रम 2. प्रैक्टिकल प्रदर्शन 3. प्रोजेक्ट का दौरा 4. समूह-आधारित परियोजना निर्माण 5. कुशल व्यापार ज्ञान 6. औद्योगिक प्रशिक्षण 7. नौकरी के स्तर पर प्रशिक्षण

जैविक हथियार का अर्थ | Jaivik Hathiyar Meaning in Hindi

परिभाषा : जैव‍िक हथियार ऐसे सूक्ष्‍मजीवी (वायरस, बैक्‍टीरिया, फंगस और अन्‍य हानिकारक तत्‍व) हैं जिन्हें लैब्स में पैदा किया जाता है और जानबूझकर फैलाया जाता है। इसका उद्देश्‍य इंसानों की बड़े स्तर पर हत्‍या करना या उनमें बीमारी पैदा करना होता है। इस कार्य के लिए बायोलॉजिकल एजेंट्स का प्रयोग किया जाता है। जैविक हथियार से बहुत कम समय में बहुत ज्‍यादा लोगों की मौत हो सकती है। इन हथियारों से किसी खास टारगेट या व्‍यापक जनसमुदाय को निशाना बनाया जा सकता है। जैविक हथियार को अंग्रेजी में Biological Weapon (बायोलॉजिकल वेपन) कहा जाता है। बॉयोलॉजिकल एजेंट (जैविक प्रतिनिधि) : कुछ विशेष वायरस, बैक्‍टीरिया, फंगस या अन्‍य हानिकारक तत्‍व विशेष बीमारियों के लिए उत्तरदायी होते हैं। उदाहरण के रूप में हम Bacillus Anthracis को देख सकते हैं जो कि Anthrax नामक बीमारी के लिए उत्तरदायी है। इस बीमारी का इलाज ना मिले तो 20 से 80% लोगों की मृत्यु हो जाती है। इसके अन्य उदाहरणों में एंथ्रेक्स, प्लेग, बोटूलिज्म, टूलेरीमिया, ग्लैन्डर, जैसे खतरनाक जैविक हमले जैविक हथियारों में शामिल हैं। बायोलॉजिकल वारफेयर (जैविक युद

द्विध्रुवी विकार का अर्थ | Bipolar Disorder Meaning in Hindi

हाल ही में फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के तथाकथित आत्महत्या मामले में एक नया मोड़ आया है। अभिनेता की थेरेपिस्ट रही सुसान वॉकर के अनुसार सुशांत आत्महत्या से पहले बाइपोलर डिसऑर्डर से जूझ रहे थे। लेकिन ये बाइपोलर डिसऑर्डर होता क्या है आइए जानते हैं। बाइपोलर डिसऑर्डर को हिंदी में द्वीध्रुवी विकार कहा जाता है। बाइपोलर डिसऑर्डर एक गंभीर प्रकार का मानसिक रोग है जो मनोदशा में विकार उतपन्न करता है। इस रोग से ग्रसित रोगी की मनोदशा बारी-बारी से दो विपरीत अवस्थाओं में जाती रहती है। एक मनोदशा को सनक (Mania) और दूसरी मनोदशा को अवसाद (Depression) कहते हैं। हालांकि इन दोनों अवस्थाओं के बीच व्यक्ति कुछ समय के लिए सामान्य भी हो सकता है। पहले देखते हैं पहली अवस्था यानी कि सनक/ Mania को : सनक की मनोदशा में रोगी अति-आशावादी हो जाता है और अपने बारे मे बढ़ी-चढ़ी धारणाएं रखने लगता है (जैसे मैं बहुत धनी, क्रिएटिव या शक्तिशाली हूँ इत्यादि) तथा बिना सोचे समझे कोई भी बड़ा निर्णय ले सकता है। इस अवस्था में व्यक्ति अति-क्रियाशील हो जाता है तथा आवश्यकता से अधिक बात करने लगता है तथा उसके विचार तेज गति से बदलन