सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

छायावाद का अर्थ Chhayavad meaning in hindi

छायावाद (1918-1936) हिंदी कविता के इतिहास का प्रसिद्ध आंदोलन है। छायावाद की काव्य धारा में कल्पना, मानवीकरण, प्रकृति प्रेम, नारी प्रेम तथा भावन्मुक्त की प्रधानता है। छायावाद का युग हिंदी साहित्य के चौथे भाग आधुनिक काल में भारतेंदु युग (1868-1900) तथा द्विवेदी युग (1900-1918) के बाद आया। छायावाद के स्पष्ट अर्थ को लेकर हिंदी साहित्य के विद्वान एकमत नही है। आचार्य शुक्ल तथा डॉ. रामकुमार वर्मा छायावाद को रहस्यवाद से जोड़ते हैं तो वहीं डॉ. नागेंद्र इसे स्थूल के प्रति सूक्ष्म का विद्रोह बताते हैं। छायावादी कविताओं की रचना द्विवेदी युग की नीरस तथा इतिवृत्तात्मक कविताओं के विरोध में की गई थी। क्योंकि उस दौर का कवि समाज सुधारों की चर्चाओं से भरी द्विवेदी काल की कोरी उपदेशात्मक कविताओं के नीरसपन से ऊब गया था इसलिए छायावाद में कविताएं इतिवृत्तात्मकता (वस्तुओं के विवरण) को छोड़ कल्पना लोक में विचरण करने लगी। छायावाद काव्य धारा की सबसे बड़ी उपलब्धि यह रही कि इसके बाद बृजभाषा हिंदी की काव्य धारा से बाहर हो गई तथा हिंदी खड़ी बोली गद्य व पद्य दोनों की भाषा बन गई। इससे पूर्व भक्तिकाल तथा रीतिकाल में बृजभाषा को केंद्र में रख कर काव्य रचना की जाती थी। जयशंकर प्रसाद, सूर्यकांत त्रिपाठी निराला, सुमित्रानंदन पंत तथा महादेवी वर्मा छायावाद के चार स्तंभ माने जाते हैं। छायावाद को साहित्यिक खड़ी बोली का स्वर्णयुग कहा जाता है। छायावाद के नामकरण का श्रेय मुकुटधर पांडेय को दिया जाता है, उन्होंने अपने निबंधों में छायावाद की पाँच विशेषताओं का वर्णन किया है - वैयक्तिकता, स्वांतत्र्य चेतना, रहस्यवादिता, शैलीगत वैशिष्ट्य तथा अस्पष्टता। मुकुटधर पांडेय की कविता "कुररी के प्रति" को छायावाद की प्रथम कविता माना जाता है। इस प्रकार सयुंक्त रूप से छायावाद में जिन तत्वों को झलक व प्रधानता दिखाई देती है वे हैं - वैयक्तिकता (यानी भावों को खुलेआम व्यक्त करना), मानवीकरण, अनुभूति की प्रतिष्ठा, जिज्ञासा, प्रकृति चित्रण (जिसके बिना छायावाद प्राणहीन है), श्रृंगारिकता, रहस्यवाद, स्वच्छंदतावाद, दुख, वेदना, करूणा, निराशा, नारी प्रेम, सौंदर्य चेतना, प्रेमानुभूति, स्वतंत्रता की चेतना, देश प्रेम, राष्ट्रीय भावना, आदर्शवाद, प्रतीकात्मकता, चित्रात्मक भाषा, लाक्षणिक पदावली तथा मुक्त छंद कविताएं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आमी तोमाके भालोबाशी का अर्थ - Ami Tomake Bhalobashi Meaning in Hindi

* आमी तोमाके भालोबाशी बंगाली भाषा का शब्द है। * इसका हिंदी में अर्थ होता है "मैं तुमसे प्यार करता/ करती हूँ। * इस शब्द का प्रयोग हिंदी फिल्मों और गानों में बंगाली टच देने के लिए किया जाता है। * आमी तोमाके भालोबाशी में "तोमाके" का अर्थ होता है "तुमको" इसे "तोमे" के साथ भी बोला जा सकता है अर्थात "आमी तोमे भालोबाशी" का अर्थ भी "मैं तुमसे प्यार करता हूँ" ही होता है। * अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति जैसे माता-पिता को बंगाली में यह शब्द कहते हुए "तोमाके" शब्द को "अपनके" बोला जाता है जैसे : आमी अपनके भालोबासी" * अंग्रेजी में इसका अर्थ आई लव यू होता है। * अगर बोलना हो कि "मैं तुमसे (बहुत) प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "आमी तोमाके खूब भालोबाशी" * वहीं अगर बोलना हो " तुम जानती हो मैं तुमसे प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "तुमी जानो; आमी तोमाके भालोबाशी"

जिहाल-ए-मिस्कीं मकुन बरंजिश का अर्थ | Zihale-E-Miskin Mukun Ba Ranjish Meaning in Hindi

"जिहाल-ए -मिस्कीन मकुन बरंजिश" पंक्ति हिंदी फिल्म गुलामी में गए गए गीत के चलते प्रचलित हुई है। यह गीत प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो द्वारा रचित फ़ारसी व बृजभाषा के मिलन से बनी कविता से प्रेरित है। यह कविता मूल रूप में इस प्रकार है। ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां... कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां... इस मूल कविता का अर्थ है : आँखे फेरके और बातें बनाके मेरी बेबसी को नजरअंदाज (तगाफ़ुल) मत कर... हिज्र (जुदाई) की ताब (तपन) से जान नदारम (निकल रही) है तुम मुझे अपने सीने से क्यों नही लगाते... इस कविता को गाने की शक्ल में कुछ यूँ लिखा गया है : जिहाल-ए -मिस्कीं मकुन बरंजिश , बेहाल-ए -हिजरा बेचारा दिल है... सुनाई देती है जिसकी धड़कन , तुम्हारा दिल या हमारा दिल है... इस गाने की पहली दो पंक्तियों का अर्थ है : मेरे दिल का थोड़ा ध्यान करो इससे रंजिश (नाराजगी) न रखो इस बेचारे ने अभी बिछड़ने का दुख सहा है...

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान दोहे का अर्थ Karat Karat Abhyas Ke Jadmati Hot Sujan Doha Meaning in Hindi

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान मध्यकालीन युग में कवि वृंद द्वारा रचित एक दोहा है यह पूर्ण दोहा इस प्रकार है "करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान; रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान" इस दोहे का अर्थ है कि निरंतर अभ्यास करने से कोई भी अकुशल व्यक्ति कुशल बन सकता है यानी कि कोई भी व्यक्ति अपने अंदर किसी भी प्रकार की कुशलता का निर्माण कर सकता है यदि वह लगातार परिश्रम करे। इसके लिए कवि ने कुए की उस रस्सी का उदाहरण दिया है जिस पर बाल्टी को बांध कर कुए से पानी निकाला जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण वह रस्सी कुए के किनारे पर बने पत्थर पर घिसती है तथा बार-बार घिसने के कारण वह कोमल रस्सी उस पत्थर पर निशान डाल देती है क्योंकि पानी भरने की प्रक्रिया बार बार दोहराई जाती है इसलिए वह रस्सी पत्थर निशान डालने में सफल हो जाती है। यही इस दोहे का मूल है इसमें यही कहा गया है कि बार-बार किसी कार्य को करने से या कोई अभ्यास लगातार करने से अयोग्य से अयोग्य व मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी कुशल हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को कभी भी अभ्यास करना नहीं छोड़ना चाहिए। इस दोहे के लिए अंग्रेजी में एक वाक्य प्रय