सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

उदारवादी दृष्टिकोण का अर्थ Udarvadi Drishtikon meaning in hindi

उदारवादी दृष्टिकोण गतिशील है क्योंकि यह समय के साथ बदल गया है। हालांकि उदारवादी दृष्टिकोण मौजूदा समय में सर्वाधिक प्रचलित व मान्य है। 20 वीं सदी का उदारवाद कल्याणकारी राज्य से जुड़ा हुआ है जो सामाजिक स्वतंत्रता के साथ-साथ व्यक्तिगत स्वतंत्रता का भी पक्ष लेता है। जानने योग्य है कि उदारवादी विचारधारा अधिक्तर समय व्यक्ति की स्वतंत्रता व अधिकारों पर केंद्रित रही है। जॉन लॉक को आधुनिक उदारवाद का जनक माना जाता है, आधुनिक उदारवाद व्यक्ति के अधिकारों तथा उसकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर अधिक बल देता है तथा चाहता है कि राज्य की शक्तियां व्यक्ति के निजी मामलों में हस्तक्षेप ना करें राज्य केवल शांति स्थापित करने तथा बाहरी आक्रमण से सुरक्षा करने तक सीमित रहे।

उदारवाद व्यक्ति को स्वतंत्रता तो देना चाहता है लेकिन यह भी मानता है कि व्यक्ति स्वार्थी होता है इसलिए वह कई बार अपने हित को पूरा करना के लिए सामने वाले का अहित भी कर सकता है इसलिए उस पर कुछ कानूनी नियंत्रण आवश्यक है और उसी कानूनी व्यवस्था की प्राप्ति हेतु वह राज्य को अनिवार्य मानता है। उदारवादी दृष्टिकोण राज्य द्वारा किसी भी वर्ग के लिए दिए जाने वाले आरक्षण का विरोधी है तथा एक वर्ग के आरक्षण को दूसरे वर्ग का शोषण मानता है, उदारवादी लोग खुली प्रतिस्पर्धा का समर्थन करते हैं।

खुली प्रतिस्पर्धा का अर्थ यह भी नही है कि उदारवादी बाजार को पूरी तरह से लोगों के हवाले कर दे, क्योंकि ऐसी अवस्था में पूंजीपति लोग गरीबों-मजदूरों का शोषण करना शुरू कर देंगे। मूलभूत आवश्यकताओं जैसे दाल, चीनी, अनाज व अन्य जीने के लिए आवश्यक वस्तुओं से जुड़े उद्योग में उदारवादी सरकार का हस्तक्षेप चाहते हैं ताकि जीने के लिए आवश्यक वस्तुओं के लिए मजदूरों को पूंजीपतियों का मोहताज ना बनना पड़े। इस प्रकार जितने भी सार्वजनिक हित हैं उनकी पूर्ति के लिए उदारवादी राज्य की उपस्थिति अनिवार्य मानते हैं, जबकि इसके उलट हमने देखा था कि मार्क्सवादी राज्य का अस्तित्व ही मिटाने के पक्ष में रहते हैं।

उदारवादी मीडिया पर किसी भी प्रकार की बंदिश का विरोध करते हैं तथा राज्य को यह अधिकार नही देना चाहते कि वह किसी भी प्रकार से कोई बात अपने नागरिकों से छुपाने की कोशिश करे। अंततः व्यक्ति को यह अधिकार होना चाहिए कि वो प्रत्येक बात को जानें और अपने विवेकानुसार उस पर अमल करें। इस प्रकार उदारवादियों की प्रत्येक माँग व्यक्ति से शुरू होकर व्यक्ति पर आकर ही समाप्त होती है, वे समाज, राज्य व अन्य सभी संगठनों को व्यक्ति के हितों की पूर्ति का साधन मानते हैं।

उदारवादी संगठनों के अलावा धर्म को भी व्यक्ति के बाद ही रखते हैं तथा सभी धर्मों को एक समान मानते हैं। बिना किसी धार्मिक दबाव के प्रत्येक व्यक्ति को अपने अनुसार किसी भी धर्म का अनुसरण करने की स्वतंत्रता व पूर्णतः अपने अनुसार जीवन जीने का अधिकार देने के समर्थक हैं। जहां उदारवाद एक व्यक्ति को धार्मिक स्वतंत्रता देता है वहीं उससे यह भी अपेक्षा करता है कि वह अन्य व्यक्तियों पर किसी धर्म को मानने का दबाव ना बनाए, तथा सभी के धर्मों, विश्वासों तथा रीति रिवाजों का सम्मान करे। इस प्रकार उदारवाद जिओ और जीने दो के सिद्धांत के करीब ही अपने विचार रखता है।

धर्म के बाद परिवार तक को भी उदारवाद व्यक्ति पर दबाव बनाने से वंचित करने का पक्षधर है, इस प्रकार व्यक्त किससे शादी करना चाहता है तथा परिवार के।साथ रहना चाहता है या नही यह पूर्णतः उसके विवेक पर छोड़ने की बात कहते हैं इस प्रकार हम देखते हैं की उदारवादी लगभग सब कुछ व्यक्ति और व्यक्ति के विवेक पर छोड़ने के पक्षधर हैं।

राजनीति के क्षेत्र में उदारवाद एक उत्तरदायी तथा प्रतिनिधि संस्था का समर्थन करता है। जिससे स्पष्ट होता है कि यह लोकतंत्र के समर्थक हैं क्योंकि उत्तरदायी व प्रतिनिधि सरकार लोकतंत्र का उत्पाद है। उदारवादी सत्ता के विकेंद्रीकरण को उचित ठहराते हैं। उदारवादी इस बात पर बल देते हैं कि व्यक्ति पर किसी भी प्रकार का दबाव नही होना चाहिए जितनी अधिक हो सके उसे स्वतंत्रता दी जानी चाहिए हालांकि स्वतंत्रता इतनी भी ना हो कि एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के निजी क्षेत्र में हस्तक्षेप करने लगे।

इस प्रकार उदारवादी दृष्टिकोण एक ऐसा दृष्टिकोण है जो यह मानता है कि व्यक्ति एक विवेकशील प्रार्णी है तथा जितनी भी आज व्यवस्थाएं हम देखतें है वो खुद व्यक्ति ने बनाई हैं चाहे वो राज्य हो, समाज हो या परिवार। इसलिए व्यक्ति को किसी भी प्रकार से इनके अधीन नही किया जाना चाहिए हालांकि उनकी प्रकृति पर अंकुश रखने के लिए राज्य व अन्य संस्थाओं द्वारा कुछ नियम लगाए जाने चाहिए, कुल मिलाकर सकारात्मक स्वतंत्रता व्यक्ति को दी जानी चाहिए, जो उसे स्वतंत्र भी रखे और दूसरे की स्वतंत्रता का हनन भी ना करने दे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आमी तोमाके भालोबाशी का अर्थ - Ami Tomake Bhalobashi Meaning in Hindi

* आमी तोमाके भालोबाशी बंगाली भाषा का शब्द है। * इसका हिंदी में अर्थ होता है "मैं तुमसे प्यार करता/ करती हूँ। * इस शब्द का प्रयोग हिंदी फिल्मों और गानों में बंगाली टच देने के लिए किया जाता है। * आमी तोमाके भालोबाशी में "तोमाके" का अर्थ होता है "तुमको" इसे "तोमे" के साथ भी बोला जा सकता है अर्थात "आमी तोमे भालोबाशी" का अर्थ भी "मैं तुमसे प्यार करता हूँ" ही होता है। * अपने से उम्र में बड़े व्यक्ति जैसे माता-पिता को बंगाली में यह शब्द कहते हुए "तोमाके" शब्द को "अपनके" बोला जाता है जैसे : आमी अपनके भालोबासी" * अंग्रेजी में इसका अर्थ आई लव यू होता है। * अगर बोलना हो कि "मैं तुमसे (बहुत) प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "आमी तोमाके खूब भालोबाशी" * वहीं अगर बोलना हो " तुम जानती हो मैं तुमसे प्यार करता हूँ" तो कहा जाएगा "तुमी जानो; आमी तोमाके भालोबाशी"

जिहाल-ए-मिस्कीं मकुन बरंजिश का अर्थ | Zihale-E-Miskin Mukun Ba Ranjish Meaning in Hindi

"जिहाल-ए -मिस्कीन मकुन बरंजिश" पंक्ति हिंदी फिल्म गुलामी में गए गए गीत के चलते प्रचलित हुई है। यह गीत प्रसिद्ध कवि अमीर ख़ुसरो द्वारा रचित फ़ारसी व बृजभाषा के मिलन से बनी कविता से प्रेरित है। यह कविता मूल रूप में इस प्रकार है। ज़िहाल-ए मिस्कीं मकुन तगाफ़ुल, दुराये नैना बनाये बतियां... कि ताब-ए-हिजरां नदारम ऐ जान, न लेहो काहे लगाये छतियां... इस मूल कविता का अर्थ है : आँखे फेरके और बातें बनाके मेरी बेबसी को नजरअंदाज (तगाफ़ुल) मत कर... हिज्र (जुदाई) की ताब (तपन) से जान नदारम (निकल रही) है तुम मुझे अपने सीने से क्यों नही लगाते... इस कविता को गाने की शक्ल में कुछ यूँ लिखा गया है : जिहाल-ए -मिस्कीं मकुन बरंजिश , बेहाल-ए -हिजरा बेचारा दिल है... सुनाई देती है जिसकी धड़कन , तुम्हारा दिल या हमारा दिल है... इस गाने की पहली दो पंक्तियों का अर्थ है : मेरे दिल का थोड़ा ध्यान करो इससे रंजिश (नाराजगी) न रखो इस बेचारे ने अभी बिछड़ने का दुख सहा है...

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान दोहे का अर्थ Karat Karat Abhyas Ke Jadmati Hot Sujan Doha Meaning in Hindi

करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान मध्यकालीन युग में कवि वृंद द्वारा रचित एक दोहा है यह पूर्ण दोहा इस प्रकार है "करत करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान; रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान" इस दोहे का अर्थ है कि निरंतर अभ्यास करने से कोई भी अकुशल व्यक्ति कुशल बन सकता है यानी कि कोई भी व्यक्ति अपने अंदर किसी भी प्रकार की कुशलता का निर्माण कर सकता है यदि वह लगातार परिश्रम करे। इसके लिए कवि ने कुए की उस रस्सी का उदाहरण दिया है जिस पर बाल्टी को बांध कर कुए से पानी निकाला जाता है। बार-बार पानी भरने के कारण वह रस्सी कुए के किनारे पर बने पत्थर पर घिसती है तथा बार-बार घिसने के कारण वह कोमल रस्सी उस पत्थर पर निशान डाल देती है क्योंकि पानी भरने की प्रक्रिया बार बार दोहराई जाती है इसलिए वह रस्सी पत्थर निशान डालने में सफल हो जाती है। यही इस दोहे का मूल है इसमें यही कहा गया है कि बार-बार किसी कार्य को करने से या कोई अभ्यास लगातार करने से अयोग्य से अयोग्य व मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी कुशल हो जाता है। इसलिए व्यक्ति को कभी भी अभ्यास करना नहीं छोड़ना चाहिए। इस दोहे के लिए अंग्रेजी में एक वाक्य प्रय